जानिए क्यों नहीं करना चाहिए सर्दी में इनका सेवन! 

0
442

सर्दी को सेहत बनाने वाला मौसम माना जाता है और ऐसे में लोग खानपान पर जोर देते हैं। अधिकतर लोगों को लगता है कि सर्दी में कुछ भी खाने से सेहत को ज्यादा नुकसान नहीं होता है। इसी कारण लोग जमकर खाते-पीते हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी सही नहीं है। सर्दी में भी कुछ चीजों का सेवन आपके लिए नुकसानदायक हो सकता है।

कफ वाले न पीयें दूध

दूध में वो सभी गुण पाए जाते हैं जो सेहतमंद रहने के लिए जरूरी होते हैं लेकिन हैरान करने वाली बात यह है कि सर्दी के मौसम में दूध का सेवन आपके लिए नुकसानदायक हो सकता है। दरअसल, दूध की तासीर ठंडी होती है। जिस कारण दूध का सेवन शरीर में कफ बनाने का काम करता है। जिन लोगों को पहले से कफ कि शिकायत होती है उनमें दूध पीने से यह परेशानी ज्यादा हो जाती है। जिस कारण गले की तकलीफ बढ़कर सांस लेने में परेशानी हो सकती है।

कॉफी, चाय का अधिक सेवन ठीक नहीं

कॉफी, चाय, हॉट चॉकलेट ज्यादातर लोगों को पसंद होते हैं। सर्दी के मौसम में लोग जमकर इन सभी चीजों का सेवन करते हैं क्योंकि यह चीजें सर्दी में गर्माहट का एहसास कराती हैं लेकिन बता दें कि, इन सभी चीजों में मौजूद फैट और कैफीन शरीर को डी- हाइड्रेट कर देता है जिस कारण हमें कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।

रेड मीट

रेड मीट और अंडे में सबसे ज्यादा प्रोटीन पाया जाता है लेकिन सर्दी के मौसम में ज्यादा प्रोटीन के सेवन से आपके गले में बलगम बन सकता है। मीट के बजाए आप मछली का सेवन कर सकते हैं हालांकि मछली में भी प्रोटीन होता है, लेकिन इसके सेवन से सेहत को किसी तरह की परेशानी नहीं होती है।

बेमौसम के फल

कभी भी बेमौसम के फल ना खाएं क्योंकि ताजा ना होने की वजह से ऐसे फल सेहत के लिए हानिकारक हो सकते हैं।

अधिक मीठा न खायें

ज्यादा मीठा खाने से प्रतिरोधी शक्ति कम हो जाती है। एक अध्ययन के मुताबिक, ज्यादा मीठा खाने वाले लोगों में बैक्टीरिया के कारण होने वाली बीमारियों से मुकाबले की क्षमता क्षमता कम हो जाती है।

पानी पीयें अल्कोहल नहीं

सर्दी के मौसम में अधिकतर लोग पानी कम पीते हैं जिस वजह से शरीर डी- हाइड्रेट हो जाता है। सर्दी में अक्सर लोग खुद को गर्म रखने के लिए अल्कोहल का सेवन जमकर करते हैं। लेकिन इसका सेवन शरीर को काफी ज्यादा डी- हाइड्रेट कर देता है, जो आपके लिए काफी खतरनाक हो सकता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here