दलितों के सम्मान की खातिर कुलपति के हाथों से नहीं ली डिग्री: बसंत कनौजिया

0
1985

मैंने कुलपति और शिक्षा विभाग के विभागाअध्यक्ष डॉ हरिशंकर सिंह के हाथों डिग्री नही ली है क्योंकि कुलपति और विभागाद्यक्ष SC/ST छात्रो के साथ भेदभाव करते है। SC/ST छात्रो के साथ हमेशा अत्याचार करते आये है। कुलपति साहब ने मुझे आये दिन किसी न किसी के द्वारा परेशान करवाते रहते हैं


लखनऊ 16 दिसम्बर। BBAU में दलित छात्रो के साथ जातिवादी भेदभाव पूर्ण रवैये से नाराज एक और छात्र ने विश्वविद्यालय के कुलपति और दलित विरोधी प्रोफेसर के हाथों दीक्षान्त समारोह कार्यक्रम में डिग्री लेने से इंकार कर दिया जिससे यह वाकया आज विश्वविद्यालय में चर्चा का विषय बना रहा।

डिग्री लेने का बहिष्कार करने वाले छात्र श्री बसंत कनौजिया ने अपने फेसबुक स्टेटस पर लिखा हैं कि कल दिनाँक 15/12/2017 को बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर केंद्रीय विश्वविद्यालय, लखनऊ में 7वें दीक्षांत समारोह के मुख्य अथिति माननीय श्री रामनाथ कोविंद जी ने शिरकत की थी। लेकिन कल मैंने दीक्षान्त समारोह कार्यक्रम में विवि के SC/ST विरोधी कुलपति के हाथों “बैचलर ऑफ एजुकेशन” (बी.एड.) की डिग्री लेने का मैने बहिष्कार किया। न उस कार्यक्रम में उपस्थित था। मैंने कुलपति और शिक्षा विभाग के विभागाअध्यक्ष डॉ हरिशंकर सिंह के हाथों डिग्री नही ली है क्योंकि कुलपति और विभागाद्यक्ष SC/ST छात्रो के साथ भेदभाव करते है। SC/ST छात्रो के साथ हमेशा अत्याचार करते आये है। कुलपति साहब ने मुझे आये दिन किसी न किसी के द्वारा परेशान करवाते रहते है।

कल शाम को शिक्षा विभाग जाकर वहाँ की ईमानदार और कर्तव्यनिष्ठ सविंदा ऑफिस असिस्टेन्ट श्रीमती नीलम जी के हाथों द्वारा “बैचलर ऑफ एजुकेशन” की डिग्री प्राप्त की। नीलम जी का बहुत -बहुत धन्यवाद देता हूँ।

श्री बसंत ने जानकारी देते हुए बताया मै बाबा साहब डॉ बी आर अम्बेडकर जी का बहुत-बहुत शुक्रगुजार हूँ अगर उन्होंने संविधान में हम SC /ST को पढ़ने का अधिकार न दिया होता तो आज हम इस मुकाम तक नही पहुँच पाते। बाबा साहेब के पदचिन्हों पर चलकर एक अच्छा शिक्षक बनकर कर्त्यव्यनिष्ठां के साथ समाज में योगदान देता रहूँगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here