ऑस्ट्रेलियाई वैज्ञानिक का दावा, बरमूडा ट्रांयगल में कोई रहस्य नहीं

0
1179

सिडनी। रहस्य बनी हुई बरमूडा ट्रैंगल की गुत्थी को वैज्ञानिको ने आखिर सुलझा ही दिया है। इस स्थान से गुजरने वाले जहाज व विमान कुछ ही क्षणों में गायब हो जाते थे। इस रहस्य के बारे में एक ऑस्ट्रेलियाई वैज्ञानिक ने दावा किया है कि बरमूडा ट्रांयगल में कोई रहस्य नहीं है।

बरमूडा ट्रांयगल फ्लोरिडा से प्यूरो रीको तक फैला हुआ सात लाख वर्ग किलोमीटर का समुद्री इलाका है, जो उत्तर अटलांटिक महासागर में बरमूडा के द्वीप तक फैला है। पिछले 100 सालों में दुनिया के इस रहस्यमयी हिस्सा में कम से कम 20 विमानों और 50 जहाज लापता हो चुके हैं। इनमें करीब 1000 लोग मारे गए हैं।

यहां से गुजरने वाले समुद्री विमान और प्लेन विशेष भौगोलिक कारणों की वजह से अचानक समुद्री गर्त में घुसकर गायब हो जाते थे। और लोग इन जहाजों के गायब होने की वजह को रहस्य मानते रहे। कुछ लोग तो यहां तक कहते थे कि, उस क्षेत्र में एलियंस वगैरह रहते हैं। बरमूडा ट्रैंगल को शैतान के त्रिकोण के नाम से भी जाना जाता है। यह क्षेत्र उत्तर पश्चिम अटलांटिक महासागर का एक भाग है जिसमें कई प्लेन और समुद्री विमान गायब हुए हैं। इस क्षेत्र पर चुंबकीय घनत्व के प्रभाव की बात भी स्वीकार की गई है।