फिल्‍म स्‍टार के बजाय अच्‍छी कहानी से चलती है: आदित्‍य ओझा

0
363

ईद के मौके पर रिलीज हुई निरहुआ एंटरटेनमेंट प्राइवेट लिमिटेड की भोजपुरी फिल्‍म ‘बॉर्डर’ को बॉक्‍स ऑफिस पर दर्शकों का कमाल का रेस्‍पांस मिला है। बिहार और यूपी में तो‘बॉर्डर’ ने सलमान खान की फिल्‍म रेस 3 को भी पीछे छोड़ दिया है। आखिर ऐसा क्‍या था इस फिल्‍म में, जो लोगों ने इसे हाथों हाथ ले लिया। इस बारे में फिल्‍म के अभिनेता आदित्‍य ओझा ने बताया कि फिल्‍म ‘बॉर्डर’ बहुत अच्‍छी सब्‍जेक्‍ट पर बनी सबसे बड़ी मल्‍टीस्‍टारर थी, जिसको संतोष मिश्र ने खूबसूरती से सजाया है। उन्‍होंने कहा कि रेस 3 के साथ हमारी फिल्‍म जरूर रिलीज हुई, मगर दोनों फिल्‍मों का कोई कंपेरिजन नहीं है। खास कर सलमान खान से तुलना भी ठीक नहीं होगा। मगर मैं भोजपुरी स्‍क्रीन के हिसाब से कह सकता हूं कि सिर्फ स्‍टार होने से सिनेमा नहीं चलती। फिल्‍म के चलने में कहानी और प्रजेंटेशन दमदार होना जरूरी होता है।

छपरा से आने वाले आदित्‍य ने फिल्‍म के अनोखे प्रमोशन के बारे में बताया कि ‘बॉर्डर’ के प्रमोशन के लिए क्रिकेट से अच्‍छा जरिया कोई हो ही नहीं सकता था। क्‍योंकि क्रिकेट के जरिये ही हम युवा पीढियों तक पहुंच सकते थे। इसलिए हमने अपने फिल्‍म के प्रमोशन के लिए क्रिकेट को चुना। इस दौरान हम उनके बीच गए। जैसा का चुनाव में भी ग्रास रूट पब्लिसिटी से रिजल्‍ट अच्‍छा होता है। उसी तरह हमने प्रमोशन के इस माध्‍यम से ‘बॉर्डर’ को लोगों के बीच पहुंचाया जिसका नतीजा पिछले वीकेंड में देखने को मिला, जब फिल्‍म को धमाकेदार शुरूआत मिली।

आदित्‍य ओझा ने फिल्‍म में अपनी भूमिका को लेकर कहा कि इसमें मेरी भूमिका एक ऐसे फौजी की है, जिसकी शादी उस लड़की से हो जाती है, जो किसी और से प्‍यार करती है। ऐसे में उसे देश पर दुश्‍मनों के अलावा घर में मानसिक तनाव को झेलने के लिए मजबूर होना पड़ता है। लेकिन फिल्‍म की कहानी आगे बढ़ती है और पत्‍नी मेरे लिए प्रेरणा का श्रोत बनती है। उन्‍होंने कहा कि मेरी भूमिका लोगों को खूब पसंद आ रही है। यह देखकर मुझे अच्‍छा लगा कि दर्शकों का प्‍यार मुझे भरपूर मिल रहा है। फिल्‍म में मेरे आपोजिट काजल यादव हैं, जो एक बेहद जहीन अदाकारा हैं। आदित्‍य ने भोजपुरी की उपेक्षा करने वालों के लिए ‘बॉर्डर’ को करारा जवाब बताया और कहा कि ‘बॉर्डर’ पूरे परिवार के साथ देखने वाली फिल्‍म है। खुद मेरे घर से लोग भोजपुरी सिनेमा से कन्‍नी काटते थे, मगर ‘बॉर्डर’ को मेरी दादी, मां, बहन समेत पूरे परिवार ने देखा और सराहा।

आदित्‍य ओझा फिल्‍म की शूटिंग के दौरान छत्तीसगढ के धमतरी में शूट के बाद नॉनवेज अपने साथियों के साथ मिलकर बैचलर्स स्‍टाइल में बनाते थे और खूब मस्‍ती करते थे। ये बातें आदित्‍य ने फिल्‍म के शूटिंग के दौरान के अनुभव को याद करते हुए बताया। उन्‍होंने ‘बॉर्डर’ में दिनेशलाल यादव निरहुआ और आम्रपाली दुबे के साथ काम करने का अनुभव साझा करते हुए कहा कि निरहुआ के साथ उन्‍होंने पहले भी काम किया है। वे काफी कमाल के अभिनेता और सुलझे हुए इंसान हैं। वो अपने को स्‍टार की मदद से हिचकते नहीं। उनके साथ काम करके मजा आता है। वहीं, आम्रपाली मेरी अच्‍छी दोस्‍त हैं। हालांकि फिल्‍म में उनके साथ मेरा कोई रोल नहीं है, पर वे काफी अच्‍छी अदाकारा हैं। बता दें कि आदित्‍य ओझा ‘बॉर्डर’ को मिली सफलता से काफी उत्‍साहित है और अब वे सारा ध्‍यान अपनी आने वाली फिल्‍म घमासान में लगाने चाह रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here