Home इंडिया DSP को भीड़ ने पीट-पीटकर मार डाला

DSP को भीड़ ने पीट-पीटकर मार डाला

0
405

श्रीनगर की एतिहासिक जामिया मस्जिद के पास हुई घटना, नौहट्टा इलाका कहलाता हैं यह

जम्मू-कश्मीर: सादे कपड़ों में जा रहे राज्य पुलिस के एक डीएसपी मोहम्मद अयूब पंडित को शरारती तत्वों ने मस्जिद के बाहर पीट-पीट कर मार डाला। डीएसपी मोहम्मद अयूब पंडित ने जान बचाने के लिए गोली भी चलाई, वहां मौजूद सुरक्षाकर्मियों ने उसे भीड़ से छुड़ाने के लिए लाठियां भी भांजी,लेकिन बचा नहीं पाएं। इस दौरान डीएसपी की पिस्तौल से निकली गोलियों से तीन युवक घायल हो गए। तीनों को उपचार के लिए अस्पताल में दाखिल कराया गया है।

आधी रात के बाद हुई इस घटना में मारे गए डीएसपी की तत्काल पहचान नहीं हो पाई और तडक़े दो बजे तक कोई पुलिस अधिकारी भी उसकी पहचान करने में समर्थ नहीं था। सभी कह रहे थे कि यह किसी खुफिया एजेंसी का गैर मुस्लिम अधिकारी है। जिस समय डीएसपी को बाहर भीड़ ने मौत के घाट उतारा,उस समय मस्जिद के भीतर उदारवादी हुर्रियत कांफ्रेंस के प्रमुख मीरवाईज मौलवी उमर फारुक लोगों को इस्लाम का पाठ पढ़ाते हुए अमन, दयानतदारी और भाईचारे की सीख दे रहे थे।

श्रीनगर की एतिहासिक जामिया मस्जिद में एक बहुत बड़ी मजलिस होती है। आधी रात के बाद राज्य पुलिस के एक डीएसपी मोहम्मद अयूब भी इबादत के लिए जामिया मस्जिद में गए। वह सादे कपड़ों में थे। लेकिन मस्जिद के बाहर कुछ शरारती तत्वों ने उन्हें पहचान, पकड़ लिया। उन्होंने डीएसपी की पिटाई शुरु कर दी। एक युवक ने कथित तौर पर उनका पिस्तौल छीन, उन्हीं पर गोली चलाने का प्रयास किया। लेकिन हाथापाई में वह उन्हें गोली नहीं मार पाया और तीन अन्य युवक जो वहां डीएसपी की पिटाई कर रहे थे,गोली लगने से जख्मी हो गए। इनकी पहचान दानिश मीर, मुदस्सर अहमद और सज्जाद अहमद बट के रुप में हुई है। तीनों को उपचार के लिए अस्पताल में दाखिल कराया गया है।

जामिया से कुछ दूरी पर तैनात पुलिसकर्मी और सीआरपीएफ के जवान गोली की आवाज सुनकर मौके पर पहुंचे। उन्होंने वहां एक व्यक्ति को पिटते देख,उसे बचाने के लिए लाठियां और आंसूगैस शरारती तत्वों पर इस्तेमाल की। लेकिन जब तक वह हिंसक भीड़ को खदेड़ते,भीड़ की मार से डीएसपी की मौत हो चुकी थी। इसके साथ ही वहां हिंसक भीड़ और पुलिसकर्मियों के बीच झड़पें शुरु हो गई।

शव को पोस्टमार्टम के लिए ले जाया गया तो पता चला कि मरने वाला कोई गैर मुस्लिम नहीं बल्कि राज्य पुलिस के सुरक्षा विंग में तैनात डीएसपी मोहम्मद अयूब पंडित है। दिवंगत जामिया मस्जिद के साथ सटे खानयार का रहने वाला था। सुबह आवश्यक औपचारिकताओं को पूरा करने के बाद उसका शव उसके परिजनों के हवाले कर दिया गया। पुलिस ने भी इस सिलसिले में एक मामला दर्ज कर छानबीन शुरु कर दी है। दिवंगत पुलिस अधिकारी की पिस्तौल की भी तलाश की जा रही है।