जश्न में बच्चों को वंचित समुदायों के बच्चों से जुड़ने का मिला मौका

0
579

लोगों को वंचित समुदायों के लोगों के साथ जोड़ना बेहद महत्वपूर्ण है, ताकि उन्हें एक दूसरे से सीखने का मौका मिले।- शांतनु मिश्रा, सह-संस्थापक एवं ट्रस्टी

मेरठ, 19 मार्च 2019: वंचित समुदायों के बच्चों ने अपने समृद्ध साथियों, अध्यापकों के सहयोग एवं मार्गदर्शन में चण्डीग-सजय़ के नज़दीक ज़ीरकपुर स्थित द गुरूकुल में दर्शकों, अभिभावकों, अध्यापकों एवं अन्य दिग्गजों का भरपूर मनोरंजन किया। द गुरूकुल ने समाज के इस वंचित समुदाय के कल्याण के लिए एक विकास संगठन स्माइल फाउन्डेशन के साथ हाथ मिलाए हैं।

स्माइल फाउन्डेशन के मिशन एजुकेशन सेंटर से लगभग 50 बच्चों ने 19 और 20 मार्च को स्कूल परिसर में आयोजित सालाना ‘उपलब्धि दिवस’ में हिस्सा लिया। दो दिनों के दौरान बच्चों ने अपने बचपन का जश्न मनाते हुए कई गीतों और नृत्यों पर परफोर्मेन्स दिया। एक विशेष एक्ट के माध्यम से उन्होंने बाल मजदूरी और शिक्षा के अधिकार पर रोशनी डाली। स्कूल के छात्रों ने भी अपने परफोर्मेन्स के साथ दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया।

संस्था के कंट्री डायरेक्टर, विनीत वैद्य, चाईल्ड फाॅर चाईल्ड, स्माईल फाउन्डेशन ने कहा की ‘‘यह द गुरूकुल से जुड़े सभी अध्यापकों और छात्रों केे लिए शानदार यात्रा रही है, जिन्होंने द मिशन एजुकेशन सेंटर के बच्चों में एक नया भरोसा जगाया है, उनमें नृत्य, गायन और प्रदर्शन का अनूठा कौशल विकसित किया है। ये बच्चे बेहतरीन परफोर्मर के रूप में उभरे हैं और स्कूल ने उन्हें काॅस्ट्युम भी मुहैया कराए।’’

स्कूल की प्रधानाध्यापक हिना शर्मा ने कहा कि ‘हमने महसूस किया कि हमारे छात्रों में वंचित समुदायों के बच्चों के प्रति सहानुभुति होनी चाहिए। यह अनुभव आने वाले समय में उन्हें भावनात्मक रूप से और करीब लाएगा।’’

शांतनु मिश्रा ने कहा कि लोगों को वंचित समुदायों के लोगों के साथ जोड़ना बेहद महत्वपूर्ण है, ताकि उन्हें एक दूसरे से सीखने का मौका मिले। उन्होंने कहा कि ‘‘जहां एक ओर कुछ बच्चों के पास मूल सुविधाओं और अवसरों का अभाव होता है, वहीं दूसरी ओर अन्य बच्चों के पास सभी सुविधाएं बहुतायत में होती हैं। स्कूलों में प-सजय़ने वाले बच्चों को इन वंचित बच्चों के लिए संवेदनशील बनाया जा सकता है, उन्हें इस उम्र में सहानुभुति के गुण सिखाना, अपने आस-पास के माहौल से सीखने के अवसर देना आसान है।’’

इस कार्क्रम में चाइल्ड फाॅर चाइल्ड प्रोग्राम के बाद एक ऑडियो-विजु़अल डिज़ाइन के माध्यम से इन बच्चों को इंटरैक्शन, सिनेमा, आर्ट और संगीत के साथ जोड़ने का प्रयास किय गया।

Please follow and like us:
Pin Share

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here