पेट्स को खरीदने के बजाय उन्हें गोद लें: मेघा चक्रबर्ती

0

पेट्स को इंसानों का सबसे भरोसेमंद दोस्त माना जाता है। जानवर आपको किसी भी दूसरे इंसान से ज्यादा प्यार करते हैं और उनका प्याार सच्चा होता है। कई लोगों के लिये पेट्स उनके बच्चे और उनके परिवार का एक अभिन्नय हिस्सा होते हैं। फिलहाल सोनी सब के ‘काटेलाल एंड सन्स ‘ में नजर आ रहीं मेघा चक्रबर्ती ऐसे ही लोगों में हैं, जिन्हें डॉग्स बेहद पसंद होते हैं और जो सड़कों पर रहने वाले डॉग्स को एक घर देना और उनकी देखभाल करना चाहते हैं।

हाल ही में हुई एक बातचीत में, मेघा ने डॉग्स को गोद लेने के अपने अनुभव के बारे में बात की और बताया कि वे कैसे अभी भी सड़कों पर रहने वाले डॉग्स की देखभाल करती हैं।

डॉग्स के साथ अपने मजबूत जुड़ाव के बारे में बताते हुये मेघा चक्रबर्ती ने कहा, ”डॉग्स के साथ मेरा गहरा नाता है। हम जिस तरह से एक-दूसरे को पसंद करते हैं और समझते हैं वह अद्भुत है। कोलकाता के मेरे घर में चार डॉग्सत हैं और मैं उन्हें बहुत मिस करती हूं। आमतौर पर, जब मैं घर पर होती हूं, तो मैं पूरी कोशिश करती हूं कि मैं मेरा पूरा समय उनके साथ और मेरे परिवार के साथ बिताऊं। हमें लॉन्ग ड्राइव्स पर जाना और आउटडोर गेम्से खेलना बहुत अच्छा लगता है।”

डॉग्स को गोद लेने के अपने अनुभव के बारे में बताते हुये मेघा चक्रबर्ती ने कहा, ”मैं जब भी बाहर जाती हूं, अपने साथ बिस्कुट्स जरूर रखती हूं, ताकि मैं सड़कों पर रहने वाले डॉग्सइ को खिला सकूं। मैं समय-समय पर एनिमल शेल्टर्स को भी दान देती रहती हूं। वर्ष 2014 में, मैं जब पहली बार मुंबई आई थी, तो मैंने एक घायल स्ट्रीट डॉग को गोद लिया था। शुरूआत में, मेरे लिये एक पेट की देखभाल करना काफी मुश्किल काम था, लेकिन मैंने उसे एक अच्छा जीवन देने के लिये अपनी तरफ से पूरी कोशिश की। आज वह कोलकाता में मेरे परिवार के साथ एक स्वस्थ जीवन जी रही है।”

मेघा चक्रबर्ती ने कहा, ”मुझे किसी पेट को गोद लेना बहुत पसंद है, लेकिन मैं अपने इमोशन्सश को कंट्रोल करती रहती हूं, क्योंकि, मैं उन्हें उतना समय नहीं दे पाऊंगी, जितना उन्हें मिलना चाहिये। मैं अपने प्रशंसकों को सलाह देना चाहूं कि पेट्स को खरीदने के बजाय उन्हें गोद लें। यदि आप पेट्स की देखभाल कर सकते हैं, तभी उन्हें गोद लें। यह एक बहुत बड़ी जिम्मेंदारी है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here