घटेगा रजिस्टर का भार, आंगनवाड़ी स्वास्थ्य सेवाओं को देंगी धार

0
कैस एप्लिकेशन पर आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को विभागीय कार्यों की जानकारियाँ करनी होंगी दर्ज़
लखनऊ, 28 जनवरी 2019: भारत सरकार ने आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के कार्यों को डिजिटाइज़ करने के लिए समेकित बाल विकास सेवा –कम्प्युटर एप्लीकेशन सॉफ्टवेर (आईसीडीएस-कैस) को लांच किया है। आईसीडीएस-कैस राष्ट्रीय पोषण मिशन के संचालन का प्रमुख हिस्सा है। इसके अंतर्गत आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को स्मार्टफोन दिये गए हैं। जिस पर अपलोडेड कैस एप्लिकेशन पर आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को विभागीय कार्यों की जानकारियाँ दर्ज़ करनी हैं तथा इनका उपयोग गृह भ्रमण-सलाह के रूप में भी होगा, जो कि पोषण अभियान के डैश बोर्ड पर भी दिखेगा जिससे विभाग के द्वारा दी जाने वाली सेवाओं व कार्यों का परियोजना-जिला एवं राज्य स्तर पर निगरानी व मूल्यांकन किया जा सकेगा।
इसके तहत जिले में आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। जहां पहले एक आंगनवाड़ी कार्यकर्ता को लगभग 11 रजिस्टर भरने पड़ते थे और उनका रख रखाव करना पड़ता था वहीं अब उन्हें इन कामों से मुक्ति मिल रही है। अब इसके लिए उन्हें विभिन्न रजिस्टरों की जरूरत नहीं पड़ती है।
पहले जब प्रशिक्षण केन्द्रों पर आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षण दिया जाता था तब आंगनवाड़ी कार्यकर्ता का ज्यादा फोकस यह रहता था की रजिस्टर कैसे भरा जाएगा और कैसे उनका रख रखाव किया जाएगा। उनका ध्यान  सेवाओं की गुणवत्ता व उनको किस तरह समुदाय में दिया जाएगा उस पर कम ही रहता था।
मलिहाबाद विकासखंड के पूर्वा गाँव की आंगनवाड़ी कार्यकर्ता नविता का कहना है कि इस एप्लिकेशन के आने से हमारा काम बहुत आसान हो गया है। पहले हमें हर बच्चे का नाम लिखना पड़ता था, आयु निकालनी पड़ती थी पर अब इस एप्लिकेशन के द्वारा मोबाइल पर एक क्लिक से बच्चे के जन्म की तारीख, वजन, माता – पिता का नाम, लैंगिक स्थिति, ग्रोथ चार्ट व उसके पोषण की स्थिति के बारे में पता लग जाता है। पहले काम बहुत कठिन था।
आईसीडीएस-कैस (ICDS-CAS)  में जो 8 मौड्यूल हैं जिन्होने आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा घरों का पंजीकरण करने, लाभार्थियों की पहचान करने, गर्भवती व धात्री महिलाओं को परामर्श की सुविधा विशेषकर बच्चों के 1000 दिन को ध्यान में रखते हुये पौष्टिक पदार्थों के उपयोग को लेकर, टीकाकारण, पोषाहार, बाल विकास निगरानी, ड्यू लिस्ट बनाने, व आंगनवाड़ी केंद्र के प्रबंधन को आसान कर दिया है।
मोहनलालगंज परियोजना की बाल विकास परियोजना अधिकारी सरोज पांडे का कहना है कि इस एप्लिकेशन में काउंसिलिंग के लिए वीडिओ भी है जो कि कार्यकर्ताओं के कार्यों को और आसान बना देगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here