लगन से काम करें, सफलता मिलेगी जरूर

0
289

प्रसिद्ध विद्वान पंडित टोडरमल राजस्थान के रहने वाले थे। एक बार उन्होंने एक ग्रंथ लिखने की योजना बनाई। इसके लिए उन्होंने अपना पूरा ध्यान पठन-पाठन और लेखन पर केंद्रित कर लिया। कार्य करते हुए उन्हें पता ही नहीं चला कि दिन, महीने कैसे बीत गए।

काफी दिनों बाद एक दिन वह अपनी मां के साथ भोजन करने बैठे। मां ने बड़े प्रेम से टोडरमल को सब्जी परोसी, चपातियां दीं और उन्हें खाने के लिए कहा। टोडरमल ने एक टुकड़ा खाया, फिर दूसरा टुकड़ा खाया और वह खाते-खाते अचानक रुक गए। यह देखकर मां ने पूछा, ‘बेटा! क्या बात है? क्या आज तुम्हें सब्जी अच्छी नहीं लग रही है?’ टोडरमल ने सहजता से जवाब दिया, ‘नहीं मां, ऐसी बात नहीं है, लेकिन मुझे लग रहा है कि आज आप सब्जी में नमक डालना भूल गई हैं।’

बेटे की बात सुनकर मां हैरानी से देखने लगीं। इस पर टोडरमल ने पूछा, ‘मां, क्या मैंने कोई गलत बात कह दी? आप मुझे इतनी हैरानी से क्यों देख रही हैं?’ यह सुनकर मां मुस्कुराकर बोलीं, ‘बेटा, मैं तेरे सवाल का जवाब अवश्य दूंगी। पहले मुझे यह बता कि क्या आज तेरा ग्रंथ पूरा हो गया?’ टोडरमल प्रसन्न होकर बोले, ‘हां, मां! आज मेरा ग्रंथ पूरा हो गया, तभी तो मैं चैन की सांस ले पा रहा हूं।’

फिर वह मां की ओर देखकर बोले, ‘लेकिन मां, तुम्हें यह कैसे पता चला कि मेरा ग्रंथ पूरा हो गया? मैंने तो अभी इस बारे में तुम्हें कुछ बताया ही नहीं।’ मां बोलीं, ‘बेटा, दरअसल मैं कई दिनों से सब्जी में जान-बूझकर कुछ कमी छोड़ती थी कि इसी बहाने तुम मुझसे कुछ देर बातें कर लोगे। लेकिन तुम अपने काम में इतने मगन थे कि तुम्हें सब्जी की कमी का पता ही नहीं चलता था।’ सच ही कहा गया है, किसी भी काम को पूरी लगन से करना चाहिए, सफलता जरूर मिलती है। टोडरमल का वह ग्रंथ ‘मोक्षमार्ग’ अत्यंत प्रसिद्ध है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here