सच सुनकर उन्होंने मुझे बहुत मारा

0
202

जब मैं स्कूल में था तो एक दिन मैने बड़े उत्साह से अपने पिता को अपनी अंकसूची दिखाई, जिसमें मुझे गणित के पेपर में 100 में से 90 अंक मिले थे ।
पिताजी ने आव देखा ना ताव और लगे मुझे पीटने, दे दनादन °°°°
और बोले, तुम इतने समझदार
कब से हो गए ? तुम बेईमान हो 9 को 90 बना दिया है ..
तुम 9 के आगे 0 लगाते हो कमीने, निकम्मे, #*$€£π∆°¢$..
मैं झार झार रो रहा था और अपने दोनों हाथ जोड़कर पुरजोर इसरार कर रहा था कि मैने 0 नहीं लगाया..

लेकिन वे सुनने के मूड में नहीं थे..
उन्होंने मुझे बहुत मारा,

जबकि मैं सच बोल रहा था..

मैने 0 नहीं लगाया था,
मैने 9 लगाया था..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here