‘द वायर’ के खिलाफ आपराधिक मानहानि के दावे पर सुनवाई टली

0
547

अदालत ने जय शाह को इस मामले में गवाहों को पेश करने का निर्देश दे चुकी है। जय शाह की ओर से दायर किए गए दावे में द वायर की वेबसाइट पर 8 अक्टूबर, 2017 को प्रकाशित हुए मानहानि वाले लेख की लेखिका रोहिनी सिंह, द वायर के संस्थापक संपादक सिद्धार्थ वरदराजन, सिद्धार्थ भाटिया, एमके वेणु, मैनेजिंग एडिटर मोनोबिना गुप्ता, पब्लिक एडिटर पामेला फिलिपोस और फाउंडेशन फॉर इंडिपेंडेंस जनर्लिज्म के मालिक व पब्लिशर के खिलाफ आपराधिक मानहानि का दावा किया है


अहमदाबाद,11 अक्टूबर। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के पुत्र जय शाह की 16000 गुना संपत्ति बढ़ने की खबर को झूठा बताने के बाद इसे प्रकाशित करने वाली वेबसाइट द वायर की रिपोर्टर रोहिनी सिंह सहित सात लोगों के विरुद्ध आपराधिक मानहानि के दावे के मामले में बुधवार को मेट्रोपोलिटन अदालत में सुनवाई टल गई। जय शाह के वकील के उपस्थित नहीं होने के कारण इसमें तारीख की मांग की गई। 

मेट्रोपॉलिटन अदालत ने इस मामले की सुनवाई अब 16 अक्टूबर तय की है। जय शाह भी आज अदालत की सुनवाई में उपस्थित नहीं हुए।

गत सुनवाई के दौरान मेट्रोपोलिटन अदालत ने आपराधिक प्रक्रिया संहिता की धारा 202 के तहत इस मामले में जांच के निर्देश दिए हैं। अदालत ने जय शाह को इस मामले में गवाहों को पेश करने का निर्देश दे चुकी है। जय शाह की ओर से दायर किए गए दावे में द वायर की वेबसाइट पर 8 अक्टूबर, 2017 को प्रकाशित हुए मानहानि वाले लेख की लेखिका रोहिनी सिंह, द वायर के संस्थापक संपादक सिद्धार्थ वरदराजन, सिद्धार्थ भाटिया, एमके वेणु, मैनेजिंग एडिटर मोनोबिना गुप्ता, पब्लिक एडिटर पामेला फिलिपोस और फाउंडेशन फॉर इंडिपेंडेंस जनर्लिज्म के मालिक व पब्लिशर के खिलाफ आपराधिक मानहानि का दावा किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here