इन फलों को खाने से बच सकते हैं कोरोना और ब्लैक फंगस से

0

फंगस दोनों से रहेंगे सुरक्षित कोरोना और कई प्रकार के फंगल संक्रमण के बढ़ते मामलों ने लोगों को मजबूत इम्यूनिटी का महत्व समझा दिया है। कोरोना हो या ब्लैक फंगस संक्रमण, विशेषज्ञ कमजोर इम्यूनिटी वाले लोगों के लिए दोनों को हो विशेष गंभीर मानते हैं। महामारी की इन विपरीत परिस्थितियों में सभी लोग अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने के लिए विभिन्न उपायों को प्रयोग में ला रहे हैं। इन्हे इम्यूनिटी को मजबूती देने में विटामिन सी को काफी महत्वपूर्ण माना जाता है।

नींबू

नींबू को विटामिन सी और एंटीऑक्सिडेंट का अच्छा स्रोत माना जाता है। कोरोना और फंगल संक्रमण के समय में जब लोग अपनी इम्यूनिटी को मजबूत करने की कोशिश में लगे हैं उनके लिए नींबू का सेवन सबसे फायदेमंद हो सकता है। इसमें मौजूद एंटीऑक्सिडेंट शरीर से फ्री रेडिकल्स को हटाने में सहायक हैं जो कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाकर संक्रमण का कारण बन सकती हैं। नींबू में थियामिन, राइबोफ्लेविन, विटामिन बी-6, पैंटोथेनिक एसिड, कॉपर और मैंगनीज भी काफी अच्छी मात्रा में पाई जाती है।

संतरा

संतरे को विटामिन सी का बेहतर स्रोत माना जाता है। आहार विशेषज्ञों के अनुसार 1 मध्यम आकार के संतरे (100 ग्राम) में विटामिन सी की मात्रा 53.2 मिलीग्राम के करीब होती है। साइट्रिक युक्त फलों में पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट गुण हमारी इम्यूनिटी को बढ़ाने के साथ फी रेडिकल्स के कारण हमारी कोशिकाओं को होने वाले नुकसान से बचाने में मदद करते हैं।

शिमला मिर्च

खट्टे और साइट्रिक युक्त फलों की तरह शिमला मिर्च में भी विटामिन सी की समान मात्रा पाई जाती है। इसके अलावा यह बीटा कैरोटीन से भी समृद्ध मानी जाती है। शिमला मिर्च में मौजूद खनिज और विटामिन, शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने के साथ, त्वचा की रंगत में सुधार करने और आंखों को स्वस्थ रखने में भी मददगार हैं। यह प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर करने वाले ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को भी कम करती है।

आंवला

आयुर्वेदिक चिकित्सका में सदियों से आंवले का इस्तेमाल विभिन्न रोगों के इलाज के लिए किया जाता रहा है। छोटे से इस फल में विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाई जाती है। संतरे की तुलना में केवल एक आंवले में विटामिन सी की मात्रा लगभग 20 गुना अधिक होती है। विटामिन सी एक शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट के रूप में कार्य करता है जो कि तंत्रिका तंत्र, प्रतिरक्षा प्रणाली और त्वचा के लिए बेहद फायदेमंद माना जाता है। इसके अलावा आंवले का सेवन मेटाबॉलिज्म को ठीक रखने, हड्डियों के निर्माण, प्रजनन और प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को बढ़ावा देने में मददगार है। रोजाना सुबह आंवले के जूस का सेवन जरूर करना चाहिए।

अनानास

अनानास को सदियों से पाचन को मजबूत करने के साथ और सूजन की समस्याओं के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जाता रहा है। इस फल में विटामिन सी और मैंगनीज की उच्च मात्रा मौजूद होती है। इसके अलावा यह कैलोरी में कम होने के साथ डाइट्री फाइबर और ब्रोमलेन से समृद्ध माना जाता है। रोजाना अनानास का सेवन करने से वायरल और बैक्टीरियल दोनों संक्रमणों का खतरा कम हो सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here