जातिवादी सोच ने पीट-पीट मार डाला, खेत में शौच करने गए दो मासूमों को

0
170
  • पूंछताछ में एक आरोपी बोला: भगवान का आदेश हुआ की राक्षसों का सर्वनाश कर डालो
  • मायावती ने कहा हत्यारों को मिले फांसी
  • शौच करने गए चचेरे भाई-बहनों को लाठियों से पीट2 कर मार डाला

 

नई दिल्ली,26 सितम्बर 2019: देश को आज़ाद हुए आज तिहत्तर वर्षों से अधिक हो गए है लेकिन लोग आज भी जातिवादी सोच की खतरनाक बेड़ियों से बाहर नहीं निकल पाए हैं। बता दें कि इसी जातिवादी सोच के चलते मध्य प्रदेश में दो दलित बच्चों की लाठियों से पीटकर हत्या कर दी गयी।

जानकारी के अनुसार 12 वर्षीय रोशनी और 10 साल का अविशना (मध्य प्रदेश) शिवपुरी जिले के एक गांव में पंचायत भवन के सामने एक खेत मे शौच करने गए थे, उसी दौरान दो लोगों ने उन्हें बेरहमी से पीटा।

घर में शौचालय न होना बन गया मौत का कारण:

खबर के अनुसार गांव वालों ने बताया कि इन बच्चों के माता पिता बहुत गरीब हैं और घर में शौचालय नहीं है, जबकि गांव को पिछले साल 4 अप्रैल को खुले में शौच से मुक्त घोषित किया जा चुका है।

पुलिस ने रामेश्वर और उसके भाई हाकिम को इस मामले में गिरफ्तार कर लिया है। बीएसपी प्रमुख मायावती ने घटना पर दुख जताया और ऐसी घटनाओं के लिए कांग्रेस और भाजपा को जिम्मेदार ठहराया।

इकलौता बेटा गया अब जी कर क्या करूंगा:

मनोज की दो बेटियां और एक बेटा है। जिसमे अविनाश सबसे छोटा था। घटना के बाद मनोज ने बिलखते हुए कहा कि जब दबंगों ने उसका बेटा ही मार डाला तो जी कर क्या करेगा? उसने आरोप लगाया कि गांव के दबंग हमेशा से उसका जातिसूचक अपमान करते हैं। उन्होंने बताया कि 2 साल पहले जब उसने झोपड़ी बनाने के लिए सड़क किनारे एक लकड़ी काट ली थी, तो हाकिम और रामेश्वर ने गांव में नहीं रहने की धमकी दी थी और कहा था, कि यदि वह गांव में रहना चाहता है तो उसे और उसके परिवार को उनके यहां मजदूरी करनी पड़ेगी।

लोगों ने ट्वीट कर कहा: जानवर खेत मे टट्टी कर सकता है दलित इंसान नही? वाह रे मनुवादी सोच?

भारतीय_SUDESH KUMAR ARYA, @KumarSudeshArya

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here