यह हिमालय सा उठा मस्तक ना झुकने पाएगा

0
1012

लक्ष्मण शाखा का स्वतंत्रता दिवस समारोह

लखनऊ. गोमती नगर की लक्ष्मण शाखा के स्वय सेवकों ने आज उत्साह के साथ स्वतंत्रता दिवस पर कार्यक्रम आयोजित किया. इसका शुभारंभ कैलाश चंद्र के द्वारा गाए गीत से हुआ-

यह हिमालय सा उठा मस्तक ना झुकने पाएगा
रोक दूँगा में प्रभंजन को जो प्रलय के गीत गाता
मोड़ दूँगा धार नद की नाश का संदेश लाता
ध्वंश का डंका बजा कर मत डराओ तुम मुझे
आज नाव निर्माण का यह स्वर ना रुकने पाएगा
जानते हो स्वार्थ की होली जलाकर जो चले
जानते हो मोह की अर्थी सजाकर जो चले
मोल उनको ले ना पायोगे रुफले ठिकारों से
रक्त से सींचा गया यह देश तरू हरियाएगा
हम लूटा देंगे जवानी एक क्या लाखों यहा पर
हम चड़ा देंगे सुमन बलिदान की नव -वेदिका पर
जाग उठेंगी हड्डिया सोई पड़ी चित्तोड़ राज मे
मात्रि-भू के भाल पर फिर अरुण ध्वज फहराएगा !!

कार्यक्रम में आजादी के अमृत महोत्सव पर जानकारी दी गई. हर घर तिरंगा अभियान को सफल बनाने का प्रयास किया गया. स्थानीय लोगों को निशुल्क तिरंगा उपलब्ध कराया गया. इस अवसर पर नगर कार्यवाह राजीव शाखा कार्यवाह राम जनम मुख्य शिक्षक हेमन्त बी एल तिवारी, रमाकांत, अनिल वर्मा मनीराम, के के शुक्ला, अखिलेश, राम मूर्ति, सौरभ, सुरेंद्र, अशोक, जय शंकर, हरीश, हरिराम, माता प्रसाद, नरेश, अनुज सहित अनेक लोग उपस्थित थे.

Please follow and like us:
Pin Share

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here