डरे नहीं, जमकर खाएं बारिश के मौसम में भुट्टा

0
1443

भुट्टा बेहद स्वादिस्ट होता है और बारिश के मौसम तो यह बेहद मिठास देता है लेकिन इसमें भी लोगों ने कुछ भ्रांतिया फैला रखीं हैं और कुछ मिथक भी जो लोगों को इस भुट्टे से दूर रखते हैं। आइए, जानते हैं उन मिथकों की सच्चाई। वेबसाइट ‘हफिंग्टन पोस्ट डॉट कॉम’ की रपट के मुताबिक, मीठे मक्के के बारे में कुछ मिथक और उसकी सच्चाई-

कुछ लोग मानते हैं कि मक्का स्वास्थ्यवर्धक नहीं है, मगर ऐसा नहीं है. कच्चा मक्का एक सब्जी है, जिसमें कई पोषक तत्व होते हैं। मक्का को स्वास्थ्यवर्धक नहीं मानने के पीछे का तर्क इसमें उच्च मंड (स्टार्च) का होना है। मिथक है कि आपका शरीर मक्का को नहीं पचा सकता। यह सच है कि मक्का में अघुलनशील फाइबर काफी ज्यादा मात्रा में होती है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि यह खराब है। शोध में यह बात सामने आई है कि अघुलनशील फाइबर हमारी आंत में अच्छे बैक्टीरिया की वृद्धि में सहायक है।

मिथक है कि मक्का पोषक तत्वों का बढ़िया स्रोत नहीं है, मगर मक्का में विटामिन बी और सी होता है। साथ ही इसमें मैग्निशियम और पोटाशियम भी होता है। पीले मक्के में काफी मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट होता है, जो आंखों के लिए फायदेमंद है।

कहा जाता है कि मक्का नहीं खाना चाहिए, क्योंकि इसमें शर्करा की मात्रा बेहद ज्यादा होती है. सवाल यह है कि अगर आप ज्यादा शर्करा होने के कारण केला खाना बंद नहीं कर सकते, तो फिर मक्का क्यों?
सच्चाई यह है कि एक भुट्टे में करीब छह से आठ ग्राम तक शर्करा होता है, जबकि केला में लगभग 15 ग्राम!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here