लद्दाख भारत की ख़ूबसूरती का एक नायाब हीरा

0
413

लेह लद्दाख भारत के सबसे खूबसूरत केंद्र शासित प्रदेश है। भारत के सबसे खूबसूरत पर्यटन में से एक लद्दाख अब काराकोरम रेंज में सियाचिन ग्लेशियर से लेकर दक्षिण में मुख्य महान हिमालय तक का क्षेत्र घेरता है। लेह शहर अपने आकर्षक मठों, खूबसूरत पर्यटन स्थलों और शानदार बाजारों की वजह से पर्यटकों का पसंदिदा स्थान है।

ब्लू पैंगोंग झील हिमालय में लेह-लद्दाख के पास स्थित प्रसिद्ध झील है जो 12 किलोमीटर लंबी है और भारत से तिब्बत तक फैली हुई है। पैंगोंग झील अपनी प्राकृतिक सुंदरता, क्रिस्टल जल और कोमल पहाड़ियाँ क्षेत्र के सुंदर परिदृश्य की वजह से एक लेह-लद्दाख का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है।

यह तस्वीर विशाखा यादव के ट्विटर अकॉउंट से ली साभार ली गयी है।

इसे मैग्नेटिक हिल को ग्रेविटी हिल भी कहा जाता है, जहाँ पर वाहन गुरुत्वाकर्षण बल की वजह से अपने आप पहाड़ी की तरफ बढ़ते हैं। यह पहाड़ी समुद्र के स्तर से लगभग 14,000 फीट की ऊंचाई पर और लेह शहर से 30 किमी की दूरी पर स्थित है। पहाड़ी के पूर्वी हिस्से में सिंधु नदी बहती है, जो तिब्बत में निकलती है जो लद्दाख की यात्रियों के लिए एक अवश्य पड़ाव है। इस पहाड़ी में एक ऑप्टिकल भ्रम या वास्तविकता, लद्दाख में मेगनेटिक हिल का रहस्य दुनिया भर के पर्यटकों को अपनी तरफ आकर्षित करता है।

बता दें कि लेह पैलेस जिसे के नाम से भी जाना जाता है जो लेह लद्दाख का एक प्रमुख ऐतिहासिक स्थल है और देश की एक ऐतिहासिक समृद्ध सम्पदाओं में से एक है। इस भव्य और आकर्षक संरचना को 17 वीं शताब्दी में राजा सेंगगे नामग्याल ने एक शाही महल के रूप में बनवाया था और इस हवेली में राजा और उनका पूरा राजसी परिवार रहता था। चादर ट्रैक लेह लद्दाख के सबसे कठिन और सबसे साहसिक ट्रेक में से एक है।

इस ट्रैक को चादर ट्रैक इसलिए कहा जाता है क्योंकि जास्कर नदी सर्दियों के दौरान नदी से बर्फ की सफेद चादर में बदल जाती है। चदर फ्रोजन रिवर ट्रेक दूसरे ट्रेकिंग वाली जगह से बिलकुल अलग है। फुकताल या फुगताल मठ एक अलग मठ है जो लद्दाख में जांस्कर क्षेत्र के दक्षिणी और पूर्वी भाग में स्थित है।

यह उन उपदेशकों और विद्वानों की जगह है जो प्राचीन काल में यहां रहते थे। यह जगह ध्यान करने, शिक्षा, सीखने और एन्जॉय करने की जगह थी। झुकरी बोली में फुक का अर्थ है गुफा, और ताल का अर्थ है आराम होता है। यह 2250 साल पुराना मठ एकमात्र ऐसा मठ है जहां पर पैदल यात्रा करके पहुंचा जा सकता है। यहां मंदिर में लोगों द्वारा अच्छे जीवन और कामों के लिए हर दिन प्रार्थना की जाती है। यहां के त्यौहारों बहुत ही उत्साह और मनोरंजन के साथ मनाया जाता है। गुरुद्वारा पथर साहिब लेह से लगभग 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

इस खूबसूरत गुरुद्वारा साहिब 1517 में गुरु नानक की याद में बनाया गया था। जैसा कि इसके नाम से ही समझ आता है कि लेह का यह तीर्थ स्थल एक अचल चट्टान है जिसको गुरु नानक जी की नेगेटिव इमेज माना जाता है। यह जगह कई ट्रक चालकों और सेना के काफिले के लिए एक बहुत ही खास जगह है। यहां आगे के कठिन मार्ग की यात्रा करने से पहले प्रसिद्ध गुरुद्वारा साहिब के दर्शन करना शुभ माना जाता है। शांति स्तूप लेह लद्दाख का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है जो एक बौद्ध सफेद गुंबद वाला स्तूप है। शांति स्तूप का निर्माण एक जापानी बौद्ध भिक्षु ग्योम्यो नाकामुरा द्वारा बनाया गया था और 14 वें दलाई लामा द्वारा खुद को विस्थापित किया गया था।

यह स्तूप अपने आधार पर बुद्ध के अवशेष रखता है और यहां के आसपास के परिदृश्य का मनोरम दृश्य प्रदान करता है। खारदुंग ला पास को लद्दाख क्षेत्र में नुब्रा और श्योक घाटियों के प्रवेश द्वार के रूप में जाना जाता है। खारदुंग ला दर्रा, जिसे आमतौर पर खड़जोंग ला कहा जाता है, यह सियाचिन ग्लेशियर में एक बहुत ही महत्वपूर्ण स्ट्रेटेजिक पास है जो 5,602 मीटर की ऊंचाई पर दुनिया के सबसे ऊंचे मोटर सक्षम पास होने का दावा करता है। लेह शहर के प्रमुख पर्यटन और दर्शनीय स्थल में हेमिस मठ का नाम भी शामिल है। यह एक तिब्बती मठ है जो सबसे धनी है और लद्दाख में सबसे बड़ा है। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here