नारद मुनि ने विष्णु भगवान से क्या माँगा और क्या मिला!

0
411

शास्त्रों में विष्णु जी और नारद मुनि से जुड़ा एक किस्सा है। नारद मुनि को इस बात अहंकार हो गया था कि उन्होंने कामदेव को पराजित कर दिया है। जब ये बात उन्होंने विष्णु जी को बताई तो उन्होंने नारद मुनि का अहंकार दूर करने की योजना बनाई।

विष्णु जी ने अपनी माया से एक सुंदर नगरी बसाई। नारद मुनि ने उस माया नगरी में पहुंच गए। वहां उन्होंने राजकुमारी विश्वमोहिनी को देखा, वह बहुत सुंदर थी। नारद जी को मालूम हुआ कि राजकुमारी का स्वयंवर होने वाला है। विश्वमोहिनी की सुदंरता देखकर नारद मुनि के मन में विचार आया कि इससे तो मुझे विवाह करना चाहिए। नारद मुनि के मन में ये विचार आते ही वे तुरंत विष्णु जी के पास पहुंच गए।

Image
Narad ghat

नारद मुनि ने विष्णु जी को पूरी बात बताई और कहा कि आप मुझे आपका सुंदर रूप दे दीजिए। स्वयंवर हो रहा है तो कन्या उसे ही पसंद करेगी, जो दिखने में सुंदर होगा। इसलिए आप मुझे अपना रूप दे दीजिए। विष्णु जी ने मुस्कान के साथ कहा कि मैं आपकी ये इच्छा जरूर पूरी करूंगा। विष्णु जी ने नारद को वानर का मुख दे दिया। नारद मुनि इस बात से बेखबर थे और वे ऐसे ही स्वयंवर में पहुंच गए। जब वे वानर रूप में स्वयंवर में पहुंचे तो वहां उनका अपमान हो गया। जब नारद मुनि को असलियत मालूम हुई तो वे विष्णु जी पर गुस्सा हो गए।

उन्होंने विष्णु जी से पूछा कि आपने मेरे साथ ऐसा क्यों किया? विष्णु जी ने जवाब दिया कि जब कोई व्यक्ति बीमार होता है तो वैद्य उसे कड़वी दवाई देता है, भले ही बीमार को वह दवा अच्छी न लगे। आप जैसे संत के मन में कामवासना जाग गई थी। इन वासनाओं को आपके मन से दूर करना था। इसलिए मैंने ही ये पूरी माया रची थी। नारद मुनि को विष्णु जी की बात समझ आ गई और अपनी गलती का अहसास हो गया।

प्रसंग की सीख : इस प्रसंग की सीख यह है कि हमें दूसरों से सुख-सुविधाएं, धन-ऐश्वर्य नहीं मांगना चाहिए। ये चीजें हमें खुद अपनी मेहनत से अर्जित करनी चाहिए। अगर ये चीजें दूसरों से मांगी जाएगी तो अपमानित होना पड़ सकता है।

Please follow and like us:
Pin Share

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here