योगी ने संभाली डिफेंस एक्सपो की कमान

0
332
डॉ दिलीप अग्निहोत्री
सबसे बड़ी और सफल इन्वेस्टर्स समिट के आयोजन का श्रेय उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नाम है। इसमें साढ़े चार लाख करोड़ रुपये से अधिक के प्रस्ताव आये थे। इसमें से एक लाख करोड़ रुपये से अधिक के प्रस्तावों का शिलान्यास भी हो चुका है। उन पर कार्य प्रगति पर है। अब योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ में प्रस्तावित डिफेंस एक्सपो की कमान संभाली है। ग्यारहवीं डिफेंस एक्सपो की तैयारियां जोरों पर है। इसका आयोजन आगामी वर्ष फरवरी को लखनऊ में होगा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इसकी तैयारियों के प्रति स्वयं गम्भीर है। इस संबन्ध में पिछले दिनों एक उच्चस्तरीय बैठक हुई थी। इसकी अध्यक्षता  रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने की थी। योगी आदित्यनाथ इसमें शामिल हुए।
इसके अलावा उन्होंने तैयारियों की रूपरेखा का भी निरीक्षण किया। बैठक में केन्द्रीय रक्षा राज्यमंत्री श्रीपद  नाईक सहित रक्षा, रक्षा उत्पादन, डीआरडीओ सेना, एचएएल के वरिष्ठ अधिकारी, उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव आरके तिवारी, अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना अवनीश कुमार अवस्थी, प्रमुख सचिव पर्यटन जितेन्द्र कुमार आदि ने प्रतिभाग किया।  राजनाथ सिंह ने कहा कि यह अब तक का सबसे बेहतरीन एक्सपो होगा। उन्होंने कहा कि योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में जिस प्रकार उत्तर प्रदेश में इन्वेस्टर्स समिट एवं प्रवासी भारतीय दिवस का सफल आयोजन किया गया है। उसी प्रकार डिफेन्स एक्सपो भी शानदार तथा अब तक का सबसे अच्छा एक्सपो होगा। रक्षा मंत्रालय एवं उत्तर प्रदेश  सरकार के अधिकारी समयबद्ध तरीके से तैयारी को अंतिम रूप देंगे।
योगी आदित्यनाथ ने कहा कि डिफेन्स एक्सपो के सफल आयोजन में राज्य सरकार भरपूर सहयोग करेगी। जिस प्रकार सरकार ने इन्वेस्टर्स समिट, प्रवासी भारतीय दिवस एवं कुम्भ का सफलतापूर्वक आयोजन कराया है, उसी प्रकार डिफेन्स एक्सपो भी अब तक का सबसे अच्छा आयोजन होगा। उन्होंने कहा कि नोडल अधिकारीगण आपस में बेहतर संवाद स्थापित कर प्रक्रिया को आगे बढ़ायें। इस माह के अंत तक रक्षा मंत्रालय को साइट उपलब्ध करा दी जायेगी। रक्षा मंत्रालय के अधिकारियों से कहा कि मध्य अक्टूबर तक जो भी कार्यवाही की जानी है, वह प्रदेश सरकार को उपलब्ध होगी।
उत्तर प्रदेश में डिफेन्स काॅरीडोर के लिए छह नोड चिन्हित हैं। करीब लगभग तीन हजार एकड़ लैण्ड उपलब्ध है। डिफेन्स एक्सपो में जो भी निवेषक इच्छुक होंगे, उन्हें इस क्षेत्र की साइट विजिट करा दी जायेगी। राज्य सरकार द्वारा डिफेन्स एण्ड एयरोस्पेस पाॅलिसी लागू की जा चुकी है। बैठक में संबंधित अधिकारियों ने डिफेन्स की तैयारियों की प्रगति आख्या का प्रजेंटेशन दिया। पांच फरवरी से आठ फरवरी तक लखनऊ में होने वाले रक्षा उत्पादों के इस सबसे बड़े मेले का थीम भारत उभरता हुआ रक्षा विनिर्माण केन्द्र रखा गया है। डिफेन्स सेक्टर में तेजी से उभरते उत्तर प्रदेष में आयोजित किए जाने वाले इस मेले में दुनियाभर के अत्याधुनिक हथियारों की प्रदर्शनी लगाई जायेगी।
डिफेन्स एक्सपो में दुनिया के रक्षा उद्योगों के प्रतिनिधि, रक्षा सामग्री निर्माण कंपनियों के साथ घरेलू कंपनियां भी हिस्सा लेंगी। यह प्रदर्शनी रक्षा क्षेत्र में निवेश के लिए उत्तर प्रदेश  को उभरते हुए आकर्षक स्थल के रूप में स्थापित करेगी। यह पहला मौका है जब लखनऊ डिफेन्स एक्सपो की मेजबानी करेगा। विदेशी व स्वदेशी कंपनियां अपने आधुनिक हथियारों का प्रदर्शन करेंगी। डिफेन्स एक्सपो भारतीय रक्षा उद्योग के लिए अपनी क्षमता व निर्यात की संभावनााओं के प्रदर्शन का बेहतरीन मौका होगा। उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश में रक्षा उद्योगों के लिए मजबूत आधारभूत ढांचा उपलब्ध है।
प्रस्तावित डिफेंस इंडस्ट्रियल कारीडोर में आगरा, अलीगढ़, चित्रकूट, लखनऊ, झांसी एवं कानपुर को चिन्हित किया गया है। सभी छह नोड्स में चरणबद्ध तरीके से भूमि अधिग्रहण का कार्य प्रारम्भ किया जा चुका है।
 तैतालिस डिफेंस इक्विप्मेन्ट निर्माणकर्ताओं द्वारा परियोजना में रूचि दिखाई गई है। राज्य सरकार द्वारा डिफेन्स एण्ड एयरोस्पेस पाॅलिसी लागू की जा चुकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here