ईरान के हमले के बाद अब जुबानी जंग

0
71

ट्रंप की शांति की पेशकश: ड़ोनाल्ड़ ट्रंप का दावा ईरान के हमले में एक भी अमेरिकी सैनिक का नुकसान नहीं हुआ

दुनिया में थर्ड वार को लेकर जताई जा रही आशंका के बीच ईरान ने इराक स्थित अमेरिकी सेना और गठबंधन बलों के दो ठिकानों पर एक दर्जन से अधिक बैलिस्टिक मिसाइलें दागीं और अमेरिका पर दबाव बनाते हुए कहा कि यह अमेरिका के ‘चेहरे पर एक तमाचा’ है।


ट्रंप ने किया ट्वीट और कहा:

सब ठीक है। इराक स्थित दो अमेरिकी सैन्य ठिकानों पर ईरान से मिसाइलें दागी गईं। नुकसान और हताहत होने का आकलन किया जा रहा है। अब तक सब ठीक है। दुनिया में कहीं भी हमारे पास सर्वाधिक शक्तिशाली और सर्व–साधनयुक्त सेना है।
जनरल सुलेमानी को क्रूर आतंकवादी बताते हुए ट्रंप ने कहा, ‘ईरानी सरकार की ओर से कल रात किए गए हमले में एक भी अमेरिकी को नुकसान नहीं पहुंचा है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार ईरान के सरकारी टीवी ने कहा‚ यह हमले अमेरिका के ड्रोन हमले में शुक्रवार को ईरान के रिवोल्यूशनरी गार्ड्स के कमांड़र जनरल कासिम सुलेमानी के मारे जाने का बदला लेने के लिए किए गए। सुलेमानी को मारने का आदेश अमेरिकी राष्ट्रपति ड़ोनाल्ड़ ट्रंप ने दिया था। ईरानी टीवी ने मिसाइल हमलों में जहां कम से कम 80 अमेरिकी सैनिकों के मारे जाने का दावा किया‚ वहीं अमेरिकी रक्षा विभाग के मुख्यालय भवन पेंटागन ने कहा‚ वह नुकसान के आकलन पर काम कर रहा हैं। आतंकी संगठन आईएस के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय गठबंधन के हिस्से के रूप में पांच हजार अमेरिकी सैनिक इराक में तैनात हैं।

उधर‚ इराकी सेना ने कहा‚ अमेरिकी सैन्य ठिकानों पर कुल 22 मिसाइलें गिरीं‚ लेकिन इराकी बलों का कोई कर्मी हताहत नहीं हुआ है। ईरान के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अली खामनेई ने कहा यह हमला अमेरिका के चेहरे पर तमाचा है।

भारत में ईरान के राजदूत अली चेगेनी ने बुधवार को कहा कि वह अमेरिका के साथ अपने देश के तनाव को कम करने की दिशा में भारत द्वारा उठाए गए किसी भी कदम का स्वागत करेंगे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here