प्रियंका के ट्वीट पर फालोवर्स ने घेरा, भाजपा ने कहा, मंत्र एक ढोंग

0
302

भाजपा ने कहा: कांग्रेस का चाल, चरित्र और चेहरा हुआ उजागर

लखनऊ, 31 दिसम्बर 2019: नागरिकता संशोधन कानून पर चल रही जुबानी जंग पर अब ‘भगवा’ तक पहुंच गयी। इसकी शुरूआत सोमवार को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने की थी। उनकी भगवा पर टिप्पणी करते ही उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा, भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता मनीष शुक्ला ने उनको घेरा और हिन्दू धर्म और संस्कृति के बारे में जानने की नसीहत दी। तब तक मध्य रात्रि एक बजे प्रियंका का ट्वीट ’ॐ ऐँ ह्रीं क्लिं चामुँड़ायै विच्चै. आया। उनके ही फालोवर्स इस पर उनको घेरने लगे। कई फालोवर्स तो इसको टीवी पर बोलकर दिखाने की चुनौती तक देने लगे। वहीं भाजपा ने इसको ढोंग बताया।

इस पर मनीष शुक्ला ने मंगलवार को कहा कि यह दिखावा की राजनीति से ही कांग्रेस का चाल, चरित्र और चेहरा उजागर होता है। जब चुनाव आता है तो कांग्रेस के युवराज जनेऊ दिखाते हैं। कांग्रेस महासचिव एक तरफ घुसपैठियां का समर्थन करती हैं, दूसरी तरफ मंत्र जाप। वहीं मंगलवार को प्रदेश सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थनाथ सिंह ने ट्वीट किया कि विरोध करने वालों ने कभी भी पड़ोसी देश में रह रहे अल्पसंख्यकों (हिन्दू, सिख, जैन वा अन्य) का दर्द नहीं समझा यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है।

मनीष शुक्ला ने कहा कि मां चमुंडा खुद ही इस ढोंग को समझती हैं और अब वे ढोंग को बर्दाश्त नहीं कर सकतीं। उनको यह भी जानकारी होनी चाहिए कि इस मंत्र का सही उच्चारण न करने से जातक को भी हानि पहुंचती है और भगवान कभी जग में आग लगाकर खुद की राजनीति चमकाने वालों का कल्याण नहीं कर सकते। वे जानते हैं कि इससे जग की हानि होगी इसी कारण तो प्रियंका वाड्रा मंत्र लिखने का नाटक भी सही ढंग से नहीं कर सकीं। इसका सही उच्चारण तो ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चै है।

सोमवार को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने भगवा रंग के बहाने ही उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधा। इस पर सीएम योगी ने भी प्रियंका को जवाब दिया। इन सब के बीच आधी रात को प्रियंका गांधी ने शक्ति की साधना का एक मंत्र ट्वीट किया है। प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया, ‘’ॐ ऐँ ह्रीं क्लिं चामुँड़ायै विच्चै.’’ उनके इस ट्वीट के बाद उनके फालोवर्स ने ही उनको घेरना शुरू कर दिया।

एक फालोवर ब्रजेश ने लिखा “कल ये बोल के दिखाए न्यूज़ चैनल पर तो माने बाकी सब कॉपी पेस्ट तो हर कोई कर सकता है।” प्रशांत भारती ने लिखा “अर्धरात्रि को मंत्रजाप कर रही है। कोई तांत्रिक अनुष्ठान….अर्धरात्रि को तो बस पैशाचिक शक्तियां (बुरी शक्तियां) जागृत होती हैं। वैसे केवल कॉपी-पेस्ट कर दिया या..।” दिवेश सिंह ने लिखा “अरे भाई क्या कर रहे हो वो मोदी जी को हराने के लिए तपस्या कर रही है आप उनकी मदद मत करो।”

प्रियंका वाड्रा के द्वारा किए गये ट्वीट का सही मंत्र यह है ‘ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चै’। दुर्गा की इन नौ शक्तियों को जागृत करने के लिए दुर्गा के ‘नवार्ण मंत्र’ का जाप किया जाता है। नव का अर्थ नौ तथा अर्ण का अर्थ अक्षर होता है। यह मंत्र क्रमशः मंगल, बुध, बृहस्पति, शुक्र, शनि, राहु तथा केतु ग्रहों को नियंत्रित करता है।

सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थ नाथ सिंह ने मंगलवार को ट्वीट किया ‘ समूचा भारत देश सीएए के समर्थन में खड़ा है और जो लोग हिंसा फैला रहे हैं देशवासी उनकी गंदी राजनीति को भी समझ रहे हैं। सीएए का विरोध करने वालों में वही लोग शामिल हैं जिन्हें जनता ने सिरे से खारिज कर दिया । दूसरे ट्वीट में लिखा कि अल्पसंख्यक चाहे अपने देश का हो या फ़िर पड़ोसी इस्लामिक देशों का उसके हितों की रक्षा करने के लिए सरकार पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। विरोध करने वालों ने कभी भी पड़ोसी देश में रह रहे अल्पसंख्यकों (हिन्दू, सिख, जैन वा अन्य) का दर्द नहीं समझा यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है।

प्रियंका गांधी ने दिया था बयान

प्रियंका गांधी का ये ट्वीट यूपी में उनकी सुरक्षा को लेकर मचे घमासान के बीच आया है। दरअसल प्रियंका गांधी ने सोमवार को कहा था, ‘‘मुख्यमंत्री योगी ने बयान दिया कि वह बदला लेंगे। । इस देश के इतिहास में शायद पहली बार किसी मुख्यमंत्री ने ऐसा बयान दिया है। उनके उस बयान पर पुलिस प्रशासन कायम है। योगी ने भगवा वस्त्र धारण किये हैं। यह भगवा आपका नहीं है। यह हिन्दू धर्म का चिन्ह है। यह भगवा हिन्दुस्तान की धार्मिक आत्धयात्मिक परंपरा का है। उस धर्म में रंज, हिंसा और बदले की भावना की कोई जगह नहीं है।’’

सीएम योगी ने किया प्रियंका पर पलटवार

प्रियंका के इस बयान पर सीएम योगी के ऑफिस ने सोमवार रात्रि में ट्वीट किया, ‘’संन्यासी की लोक सेवा और जन कल्याण के निरंतर जारी यज्ञ में जो भी बाधा उत्पन्न करेगा उसे दण्डित होना ही पड़ेगा। विरासत में राजनीति पाने वाले और देश को भुला कर तुष्टिकरण की राजनीति करने वाले लोक सेवा का अर्थ क्या समझेंगे?’’

बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और एनआरसी के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि हिंसा में शामिल लोगों को सार्वजनिक संपत्तियों को नुकसान पहुंचाने के लिए भुगतान करना होगा। उन्होंने कहा था, “हम उनकी संपत्तियों को जब्त करेंगे क्योंकि कई चेहरों की वीडियो फुटेज के माध्यम से पहचान हुई है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here