आधार से लिंक न करा पाई मासूम, भूख से तड़प-तड़पकर दम तोड़ा

1
495

शर्मनाक: जांच कमिटी ने बताया कि बच्ची की मौत मलेरिया से हुयी


झारखंड 17 अक्टूबर। झारखंड के सिमडेगा जिले में एक 11 साल की बच्ची राशन कार्ड को आधार से लिंक न कराने के कारण घर में आये फाकें की स्थिति का सामना न कर सकी और उसने भूख से तड़प-तड़पकर दम तोड़ दिया। इस घटना के बाद से इलाके में डिजिटल इंडिया को लेकर तरह तरह की बाते हो रही है जिससे मोदी गवर्नमेंट पर सवाल उठ रहे है। फिलहाल पीड़ित परिवार को सीएम ने तत्काल 50 हजार की सहायता देने का निर्देश दिया।

बता दें कि इन दिनों सरकार इस देश को पूरी तरह से डिजिटल बनाने में जुटी हुई है। ऐसे में सभी जरुरी चीजों मोबाइल नंबर, पैन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, बैंक अकाउंट, राशन कार्ड सभी को आधार कार्ड से लिंक कराना अब जरुरी हो गया है। अन्यथा आपके अकाउंट और नंबर सभी बंद हो जाएंगे, पर सरकार के इस कदम के चलते इन बातों से अनजान या फिर यूँ कहे की इन सूचनाओं से अज्ञान लोग इस पूरे प्रोसेस को समझने में असमर्थ है।

दरअसल, यहाँ एक 11 साल की लड़की सिर्फ इसलिए भूख से तड़प-तड़प कर मर गई, क्योंकि उसका परिवार राशन कार्ड को आधार से लिंक नहीं करा पा रहा था। संतोषी कुमारी नाम की इस लड़की ने पिछले 8 दिन से खाना नहीं खाया था, जिसके चलते बीते 28 सितंबर को भूख से उसकी मौत हो गई।

इसके बाद मुख्यमंत्री रघुवर दास ने आज सिमडेगा उपायुक्त से 11 वर्ष की एक लड़की की हुई मौत के मामले में जानकारी ली और कहा कि इस खबर से बहुत पीड़ा हुई है। वहीँ सिमडेगा के डीसी ने बताया कि तीन सदस्यीय जांच कमिटी ने मौत की जांच की है, जिसमें यह बात सामने आई है कि बच्ची की मौत मलेरिया से हुई है।

साथ ही, सिमडेगा के उपायुक्त को 24 घंटे में स्वयं पूरे मामले की निष्पक्षता से और त्वरित जांच करते हुए रिपोर्ट सौपने के निर्देश दिया। उन्होंने मामले में सत्यता मिलने पर दोषियों पर कड़ी कार्रवाई की उम्मीद भी जताई है।

 

Please follow and like us:
Pin Share

1 COMMENT

  1. न तो जमीन है, न कोई नौकरी और न ही कोई स्थायी आय जिसके चलते झारखंड के सिमड़ेगा में 11 साल की एक बच्ची की 8 दिन से खाना न मिलने के कारण 28 सितंबर को भूख से मौत हो गई । छह महीने पहले बच्ची के परिवार का सरकारी राशन कार्ड रद्द कर दिया गया था क्योंकि उसे आधार से लिंक नहीं कराया गया था। राइट टू फूड कैंपेन के एक्टिविस्ट्स का कहना है कि संतोषी कुमारी के परिवार को पब्लिक डिस्ट्रीब्यूशन स्कीम के तहत राशन दे दिया जाता तो बच्ची को 8 दिनों तक भूखा नहीं रहना पड़ता।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here