नकवी ने विरोध को बताया पाखंड

0
303
नागरिकता कानून के समर्थन में भी अब आवाज बुलंद होने लगी है। बेहतर यह कि इसके लिए शांतिपूर्ण व संवैधानिक तरीके को तरजीह दी गई। इस सिलसिले में केन्द्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी लखनऊ आये। उन्होंने  दावा किया कि नागरिकता कानून का विरोध एक बड़े षड्यंत्र के तहत किया जा रहा है। विरोध के माध्यम से कांग्रेस और वामपंथी केवल राजनीतिक पाखंड कर रहे है।
 
नौजवानों के कंधों पर बंदूक रखकर यह अशांति फैलाकर एक वर्ग विशेष को भ्रमित कर अपनी राजनीति कर रहे हैं। व्यापक विचार विमर्श के बाद ही नागरिकता संशोधन विधेयक बनाया गया था। इसे पूरी तरह न्याय संगत व संवैधानिक भावना के अनुरूप स्वरूप दिया गया था। इसे सलेक्ट कमेटी के पास भी विचारार्थ भेजा गया था।  पारित कराने में संवैधानिक प्रक्रिया का पालन हुआ। 
 
विपक्ष के नेता जानते है कि भारत का कोई नागरिक इस कानून से प्रभावित नहीं है। इस देश का मुसलमान यहां कम्पलसन से नहीं कमिटमेंट से रहता है। कुछ लोग निजी हितों के लिए उन्हें भ्रमित करना चाहते हैं। इसके कारण ही कई स्थानों पर हिंसक प्रदर्शन हुए। जितने बड़े पैमाने पर लोगों में डर फैलाकर इस कानून के बारे में एक वर्ग को डराया गया इसका अंदाजा नहीं था। फिर भी सरकार ने देश विरोधी ताकतों के द्वारा फैलाये जा रहे भ्रम के खिलाफ कमर कसी है। अब लोग सच्चाई को समझने लगे है।
 
– डॉ दिलीप अग्निहोत्री

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here