पुस्तक मेले में सबसे ज्यादा मांग सदाबहार साहित्य की

0
554
सोलहवां राष्ट्रीय पुस्तक मेला: समापन की ओर बढ़ चला मोतीमहल लान का बुक फेयर
लखनऊ, 5 अक्टूबर 2018: प्रेमचंद, टैगोर, बंकिमचन्द्र, शरतचन्द्र, भारती, अमृतलाल नागर, महाश्वेता देवी, बच्चन, नीरज जैसे सदाबहार साहित्य के प्रणेताओं की कृतियों के खरीदारों की राणाप्रताप मार्ग मोतीमहल लान में चल रहे सोलहवें राष्ट्रीय पुस्तक मेले में इन अंतिम दिनों में खूब कद्रदान आ रहे हैं। इनके साथ ही चेतन भगत, अरुंधती जैसे स्थापित सामयिक रचनाकारों और पहचान बना चुके साहित्यकारों की भी खासी मांग है।
दि फेडरेशन आॅफ पब्लिशर्स एण्ड बुकसेलर्स एसोसिएशन्स इन इण्डिया, नई दिल्ली के सहयोग से हो रहे के.टी.फाउण्डेशन व फोर्सवन का समापन की ओर बढ़ चला निःशुल्क प्रवेश वाला यह मेला सात अक्टूबर तक रोज सुबह 11 से रात नौ बजे तक चलेगा।
पुस्तक मेले में साहित्य भण्डार के स्टाल पर 50 रुपये में निकली दो सौ से ज्यादा हिन्दी साहित्यकारों की पुस्तकें साहित्यकारों की पहली पसंद हैं। सामयिक, गौतम बुक, सभरवाल, बुक थ्रेड, किताबघर, लोकभारती, साईं बुक के स्टालों पर साहित्य पसंद करने वालों का क्रम बराबर चल रहा है।
पुस्तक मेले में जाने माने पुरुष साहित्यकारों के संग महिला रचनाकारों नासिरा शर्मा, तस्लीमा नसरीन, मृदुला गर्ग, मन्नू भण्डारी, शिवानी, महादेवी वर्मा, मीना अरोड़ा, मेहरुन्निसा परवेज आदि रचनाकारों की पुस्तकें तलाशने और खरीदने वालों की कमी नहीं है। प्रभात प्रकाशन के स्टाल पर साहित्य के संग ही ज्वलंत विषयों में हेमंत शर्मा की युद्ध में अयोध्या और अयोध्या का चश्मदीद की कई प्रतियां निकल चुकी हैं।
राजपाल के स्टाल पर मेले की चर्चित पुस्तक जिंदगी फिफ्टी-फिफ्टी के लेखक भगवंत अनमोल प्रशंसकों की खरीदी प्रतियों पर हस्ताक्षर किए और बातचीत की। पुस्तक की कुल प्रकाशित 11 सौ में से अबतक करीब छह सौ प्रतियां बिकी हैं।
आज गांधी बाल एवं युवा मंच पर ज्वाइन हैण्ड्स फाउण्डेशन के सौजन्य से तथा ज्योतिकिरन रतन के संयोजन में आज चली नृत्य़, परिधान, चित्रकला, गायन आदि की प्रतियोगिताओं में वैष्णवी, पिंकी, पावनी, मिताली, आस्था, देवांश, अभिषेक, ऋषभ, निशिकांत, अर्पिता व रिद्धमा आदि बच्चों ने आकर्षक प्रस्तुतियां दीं।
आज सुबह अखिल भारतीय अगीत परिषद की काव्यगोष्ठी में अनेक कवियों से मधुर रचनाएं सुनाईं। नीलम राकेश की बीसवीं कृति कथा संग्रह धूप छाँव का लोकार्पण अतिथियों डा.विद्या बिन्दु सिंह, प्रो.योगेन्द्र प्रताप सिंह, डा.सुरेन्द्र विक्रम, अखिलेश श्रीवास्तव चमन क विचार रखने के बीच डा.अमिता दुबे व अलका प्रमोद के संचालन और राकेश चन्द्रा, प्रो.अरविन्द मोहन, अनामिका श्रीवास्तव, डा.ऊषा चौधरी, डा.निर्मला सिंह, हेमलता, शारदा लाल आदि की उपस्थित में हुआ।
इससे पूर्व कहानी संग्रह मिस फार यूथ 2012 का विमोचन हुआ। द राइटर्स हब द्वारा पोयट्री शो में युवाओं की जोश भरी प्रस्तुतियों को श्रोताओं को सराहा। शाम गहराने के साथ तहजीबे अवध की ओर से कवि सम्मेलन व मुशायरे में कविताओं और कलामों का श्रवणीय दौर चला।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here