28 सितम्बर को आरक्षण समर्थक कराएंगे अपनी ताकत का अहसास

0
344
आरक्षण समर्थकों का बड़ा ऐलान
लखनऊ, 23 सितम्बर 2018: पूना पैक्ट की पूर्व संध्या पर आज 23 सितम्बर को ‘संकल्प दिवस’ के उपलक्ष्य में  आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति,उप्र के तत्वाधान में आरक्षण समर्थक कार्मिकों द्वारा रिसालदार पार्क बुद्ध विहार सभागार में एक संगोष्ठी आयोजित की गयी। जिसमें सभी आरक्षण समर्थकों ने बुद्ध वन्दना के उपरान्त आज संकल्प दिवस के अवसर पर यह संकल्प लिया कि जब तक पदोन्नति में आरक्षण संवैधानिक संशोधन 117वां बिल को लोकसभा से अविलम्ब पास नहीं हो जाता, एससी/एसटी ऐक्ट पर हो रहा कुठाराघात रूक नहीं जाता तब तक हम चुप नहीं बैठेंगे।
इस दौरान आरक्षण समर्थकों ने पिछड़े वर्ग के कार्मिकों को पदोन्नति में आरक्षण की पूर्व व्यवस्था को बहाल कराने का भी संकल्प लिया। दिनांक 28 सितम्बर को प्रातः 6ः30 बजे विशाल पैदल मार्च/परिक्रमा में सभी आरक्षण समर्थकों से भाग लेने की अपील की।
 आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति,उप्र के संयोजक अवधेश कुमार वर्मा ने संयोजक मण्डल को शपथ दिलाते हुए कहा कि आज ही के दिन बाबा साहब ने जातिवाद/सामाजिक भेदभाव व मानवीय मूल्यों की रक्षा करने के लिये संकल्प लिया था। इसलिये हम सभी आरक्षण समर्थकों का नैतिक कर्तव्य है कि बाबा साहब द्वारा दी गयी आरक्षण रूपी संवैधानिक व्यवस्था को बचाने के लिये हर कुर्बानी देने के लिये तैयार रहें।
इस मौके पर आरक्षण बचाओं संघर्ष समिति के संयोजकों अवधेश कुमार वर्मा, डा रामशब्द जैसवारा, आरपी केन, अनिल कुमार, अजय कुमार, श्याम लाल, रीना रजक, अन्जनी कुमार, अंजली, सुधा, अनीता, रेनू, प्रेम चन्द्र, अशोक सोनकर, रामेन्द्र, योगेन्द्र, जितेन्द्र कुमार, राजेश पासवान, प्रभुशंकर, श्रीनिवास, अमित कुमार, पीपी सिंह, अरविन्द फर्सोवाल, सुनील कनौजिया ने कहा कि अब समय आ गया है सभी आरक्षण समर्थकों को एकजुट होकर बाबा साहब के सपने को साकार करने के लिये आज इस ऐतिहासिक दिन पर व्यापक जनांदोलन चलाने का संकल्प लेकर मोदी सरकार को पदोन्नति में आरक्षण बिल पास करने के लिये विवश किया जायेगा। रिसालदार पार्क बुद्ध विहार का यह ऐतिहासिक स्थल जहां बाबा साहब डा भीमराव अम्बेडकर भी दो बार आ चुके हैं और बौद्ध भिक्षुओं से बहुत कुछ सीखा है। हम सभी के लिये यह स्थल प्रेरणा स्रोत है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here