समाजवाद को सत्ता में लाना भी सार्थक समाज सेवा: शास्त्री

14

राहुल कुमार गुप्त

चित्रकूट, लखनऊ, 20 मई, 2021: एक साधारण सा नाम एडवोकेट रमेश चंद्र शास्त्री आज जरूर मीडिया के लिए नया हो सकता है, लेकिन जिनके मुख में सदा सभी के लिए एक मीठी सी मंद मुस्कान है, दिल में समाजवादी विचारों का समंदर है। सादगी का जो एक नया अध्याय सा है, जो हम उम्र युवाओं के अलावा हर उम्र के हर विचार धारा के लोगों को प्रभावित करता है वो चमक-धमक वाली मीडिया में जरूर साधारण और अंजाना हो सकता है। लेकिन बुंदेलखंड की वीर धरा से पूरब के आक्सफोर्ड तक इस युवा को सब प्यार से शास्त्री जी बुलाते हैं।


कोरोना पीड़ितों के परिवारों को आर्थिक सहायता भी पहुंचाई जा रही है:

‘कोरोना गाइडलाइंस और वैक्सीनेशन के बारे में लोगों को हमारी टीम जागरूक कर रही है, आने जाने वाले जिन यात्रियों के पास मास्क और सैनैटाईजर नहीं हैं उन्हें ये चीजें उपलब्ध कराई जा रही हैं साथ ही कुछ बेहद जरूरतमंदों को गुप्त रूप से भी आर्थिक मदद की जा रही है। जिसमें हमारी टीम के लोगों का बहुत सहयोग मिल रहा है। इस आपदा के कम होने पर पूरे प्रदेश का भ्रमण कर समाजवाद के प्रति लोगों को जागरूक करना प्राथमिकता होगी, अभी यह कार्य सोशल मीडिया के माध्यम से वर्चुअल हो रहा है।’ – एडवोकेट रमेश चंद्र शास्त्री


समाजवादी विचारों को जड़ों से मजबूत करने के लिए वो कई वर्षों से निरंतर जमीन पे एक बागवां की तरह, एक किसान की तरह मेहनत कर रहे हैं। जिससे अपने स्थानीय चित्रकूट जिले के अलावा आसपास के अन्य जिलों में भी इस युवा समाजवादी विचारक के साथ बहुत से लोग अनायास ही जुड़ जाते हैं। सभी छोटे-बड़ों को उचित सम्मान देकर आदर करने का सत्कार, शास्त्री जी की एक बड़ी खूबी है। इनके परिवार में एक बड़ी राजनैतिक पृष्ठभूमि भी रही, जिसका अभिमान इनको कभी नहीं रहा, सबके लिए हमेशा से सहज और सरल रहे।

चित्रकूट में डाक्टर निर्भय सिंह पटेल के सानिध्य में समाजवादी पार्टी में सम्मिलित हुए एडवोकेट रमेश चंद्र शास्त्री और संतोष मौर्य। साथ में सपा के पदाधिकारी गण

बात उत्तर प्रदेश और बिहार की राजनीति की हो और वहां जाति न आये, तो राजनीति भी अधूरी सी मानी जाती है। भले ही राजनीतिक दल कोई भी हो। एडवोकेट रमेश चंद्र शास्त्री भी पिछड़ी जाति से हैं और इनकी पकड़ अपनी बिरादरी में अच्छी खासी मानी जाती है। जिनका प्रतिशत उत्तर प्रदेश में काफी है। जो प्रदेश की राजनीति में एक परिवर्तन लाने के लिए पर्याप्त है। कुशवाहा, शाक्य, मौर्य, सैनी एक जाति की कुशवाहा बिरादरी से ताल्लुक रखने वाले शास्त्री जी समाज सेवा के अपने क्षेत्र के साथ हाल ही में 17 मई को अपनी वैचारिक पार्टी, समाजवादी पार्टी में सम्मिलित हुए हैं। ताकि 2022 में सामंती और संप्रदायवादी ताकतों को सत्ता से उतारकर समाजवाद की बयार फिर से प्रदेश में बहा सकें। जिससे आमलोगों में पुनः शुकून की खुशी देखी जा सके। शास्त्री जी के अनुसार यह एक बड़ी और सार्थक समाज सेवा होगी।

समाजवादी लोहिया वाहिनी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष, मऊ-मानिकपुर विधानसभा क्षेत्र से सपा के पूर्व प्रत्याशी तथा इलाहाबाद विश्वविद्यालय छात्रसंघ के पूर्व उपाध्यक्ष रहे डाक्टर निर्भय सिंह पटेल, इलाहाबाद विश्वविद्यालय में इनके भी सीनियर रहे और इन्हीं की विचारधारा में ढल कर एडवोकेट रमेश चंद्र शास्त्री समाजवादी विचार धारा से ओत-प्रोत हो गए थे। अपने इन राजनीतिक गुरु के समक्ष शास्त्री जी ने सक्रिय रूप से राजनीति मेंं भी पदार्पण किया तथा अपने सैकड़ों मित्रों, समर्थकों और अन्य आमजन को सपा में जोड़ने के लिए तत्पर हो गए हैं। कोरोना की इस महाआपदा में लोगों की सेवा पहला लक्ष्य मान रहे हैं साथ ही लोगों को समाजवादी विचारों से अवगत करा रहे हैं। इस आपदा के बाद तुरंत ही सैकड़ों लोगों को सक्रिय सदस्य के रूप में सम्मिलित कराते हुए प्रदेश भ्रमण कर लोगों को सपा से जोड़ने का काम करेंगे।

14 COMMENTS

  1. बहुत अच्छे नेता जी…मैं आपके विचार धारा से प्रभावित हुआ… जीवन के सफर में जो संघर्ष करते आगे बढ़ता जाता है,
    वही इंसान आगे चलकर मुकद्दर का सिकन्दर कहलाता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here