भारत का डाटा भारतीयों के नियंत्रण में होना चाहिए: मुकेश अंबानी

0

डाटा विदेशी हाथों में जाने से बचाने के लिए प्रधानमंत्री से कदम उठाने का किया आग्रह मुकेश अंबानी ने

नई दिल्ली, 19 जनवरी 2019: रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक मुकेश अंबानी ने शुक्रवार को गांधीनगर में आयोजित नियंत्रण शिखर सम्मेलन वाइब्रेंट गुजरात 2019 के दौरान प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी तथा देश-विदेश की कई प्रमुख राजनीतिक तथा उद्योग हस्तियों के बीच डाटा नियंत्रण के मुद्दे पर अपनी राय रखते हुए कहा कि भारतीय डाटा हथियाने को लेकर विश्व की कंपनियों में होड़ मची है उन्होंने चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि डाटा कालोनाइजेशन आजादी पूर्व के राजनीतिक कालोनाइजेशन की तरह ही बुरा है।

उन्होंने कहा कि भारत का डाटा भारतीयों के नियंत्रण स्वामित्व में ही होना चाहिए। उन्होंने गुजरात में रिलायंस की ओर से 6 लाख करोड़ का निवेश करने का एलान किया। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से ‘‘डेटा के औपनिवेशीकरण’ के खिलाफ कदम उठाने का आग्रह किया।

कुछ मीडिया ख़बरों के अनुसार राजनीतिक औपनिवेशीकरण के खिलाफ महात्मा गांधी के अभियान का उल्लेख करते हुए अंबानी ने कहा कि भारत को अब डेटा पर दूसरे देशों के कब्जे को खत्म करने के लिए नया अभियान छेड़ने की जरूरत है। मुकेश अंबानी ने शुक्रवार को गांधीनगर में आयोजित नियंत्रण शिखर सम्मेलन वाइब्रेंट गुजरात 2019 के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा देश-विदेश की कई प्रमुख राजनीतिक तथा उद्योग हस्तियों के बीच डाटा नियंत्रण का मुददा उठाया।

उन्होंने कहा, गांधी जी की अगुवाई में भारत ने राजनीतिक औपनिवेशी करण के खिलाफ अभियान चलाया। अब हमें आंकड़ों के औपनिवेशीकरण के खिलाफ सामूहिक तौर पर अभियान छेड़ने की जरूरत है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here