ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए नहीं लगाने पड़ेगें चक्कर, आनलाइन आवेदन करने पर एसएमएस से होगी जानकारी

0

04 नवम्बर। ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए आपको अब परिवहन कार्यालय (आरटीओ) के चक्कर नहीं लगाने होंगे। ऑनलाइन आवेदन करना होगा और एसएमएस से पता लग जाएगा कि लाइसेंस बना है या नहीं। यह सुविधा दिसंबर माह के अंत तक शुरू हो जाएगी।

इसके लिए सरकार ने वेबबेस्ड वाहन 4.0 व सारथी 4.0 इन्टीग्रेटेड ट्रांसपोर्ट एप्लीकेशन साफ्टवेयर तैयार किया है। इसके शुरू होने पर परिवहन विभाग की सभी सेवाएं ऑनलाइन हो जाएंगी। फिलहाल कर्मचारियों को ट्रेनिंग दी जा रही है। संभाग के चारों जिलों में यह सुविधा शुरू होनी है। हाथरस, अलीगढ़, एटा, कासगंज कार्यालयों पर टॉवर लग चुके हैं। नेटवर्क के लिए लीजलाइन बिछाई जा रही हैं। एटा जिले के उन कर्मचारियों को ट्रेनिंग के लिए दो नवंबर को लखनऊ बुलाया गया है, जिन्हें नई व्यवस्था की जिम्मेदारी दी जाएगी। इसके बाद अन्य जिलों के कर्मचारियों को ट्रेनिंग के लिए लखनऊ बुलाया जाएगा। नई सुविधा शुरू होने पर वाहन की फीस, टैक्स के लिए कार्यालय जाने की जरूरत नहीं होगी। साथ ही वेबसाइट से ही इनके संबंध में घर बैठे ही जानकारी ले सकेंगे।

परिवहन विभाग की कई सुविधाएं ऑनलाइन होंगीं

परिवहन विभाग की कई सुविधाएं ऑनलाइन होंगीं। इनमें वाहन स्वामित्व हस्तांतरण, पंजीयन, अस्थाई परमिट, पंजीयन प्रमाण पत्र की डुप्लीकेट कॉपी, पता परिवर्तन, अनापत्ति प्रमाण पत्र लेना शामिल हैं। आवेदन के तीसरे दिन प्रमाण पत्र ले सकेंगे। इसके अलावा रजिस्ट्रेशन, टैक्स, फिटनेस प्रमाण पत्र, परमिट की वैधता खत्म होने से पहले और बाद में एसएमएस से जानकारी मिलेगी।

पता बदलकर दूसरा लाइसेंस बनवाने वालों की आसानी से हो सकेगी पहचान

संभागीय परिवहन अधिकारियों के अनुसार ऑनलाइन आवेदन के बाद भी बड़ी संख्या में लोग एक ही स्थान से दो लाइसेंस आसानी से बना लेते हैं। एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर की शुरूआत होने पर फर्जी लाइसेंस नहीं बन पाएंगे। पासपोर्ट की तरह सिस्टम से पता चल जाएगा कि लाइसेंस बना है या नहीं। पता बदलकर दूसरा लाइसेंस बनवाने वालों की आसानी से पहचान हो सकेगी।

क्या कहते हैं अधिकारी- उप परिवहन आयुक्त आगरा एपी सिंह का कहना है कि नई व्यस्था से लाइसेंस प्रक्रिया को पारदर्शी बनाने में मदद मिलेगी। प्रथम चरण में लखनऊ, कानपुर सहित अन्य बड़े प्रदेशों में इसकी शुरूआत हो चुकी है। अलीगढ़ रीजन के सभी जिलों में दिसबंर तक यह सेवा शुरू हो जाएगी।

आरटीओ – सम्भागीय परिवहन अधिकारी राधेश्याम का कहना है कि रीजन के चारों जिलों में लीजलाइन के संचालन के लिए टॉवर लगा दिए गए हैं। वर्तमान में सर्वर डाउन होने पर काफी दिक्कतें होती हैं। नई व्यवस्था के चालू होने पर कार्य तेजी से होगा और लोगों को भी राहत मिलेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here