अपोलो म्युनिक लाई ‘WINSURE’ हेल्थ वॉलेट पॉलिसी

0
345

अपनी तरह का पहला Health Wallet प्लान स्वास्थ्य बीमा के क्षेत्र में एक नई श्रेणी

इंदौर, 18 दिसंबर 2017: अपने ग्राहकों को आकर्षित करने की अनूठी पेशकश के रूप में अपोलो म्युनिक हेल्थ इंश्योरेंस एएमएचआई ने अपने क्रांतिकारी विन-विन हेल्थ इंश्योरेंस प्लान, Health Walletके साथ आज एक नई श्रेणी ‘WINSURE’ पेश की। अपनी तरह की यह अकेली पॉलिसी स्वास्थ्य बीमा श्रेणी को पुनर्पारिभाषित करने के लिए तैयार है। इसके लिए यह कई महत्त्वपूर्ण मुद्दों को संबोधित करती है जैसे निवेश का बेहतर और आसान लाभ। Health Wallet ना सिर्फ ग्राहकों की मौजूदा आवश्यकताओं की पूर्ति करता है और अस्पताल में रहने या ओपीडी के उनके खर्चों का भुगतान करता है जो अमूमन स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी के तहत कवर नहीं होता बल्कि इऩ पॉलिसियों को वर्षों जारी रखने की किफायत भी देता है।

 विघटनकारी और अभिनव Health Wallet प्लान एक अनूठे ‘रिजर्व’ लाभ के साथ मिलता है। अपने नाम के अनुकूल यह खासियत ग्राहकों के लिए एक रिजर्व किट्टी बनाती है जिसका उपयोग भिन्न किस्म के आउट ऑफ पॉकेट खर्चों के लिए किया जा सकता है। इनमें स्पीच थेरापी, दवाइयां खरीदना, टीकाकरण, दांतों के खर्चे, रोग निदान के लिए आवश्यक जांच, चश्मे, कांटैक्ट लेंस, चिकित्सा उपकरण जैसे ब्लड प्रेशर और शुगर नापने की मशीन, ऑक्सीमीटर, प्रोसथेटिक्स, मेडिकल प्रैक्टिस करने वाले से कंसलटेशन, फिजियोथेरापिस्ट, डायटिशियन आदि शामिल हैं। पॉलिसी होल्डर्स चाहें तो इससे ‘नॉन पेएबल आयटम’ के लिए भुगतान करने के लचीलेपन का भी लाभ उठा सकते हैं जबकि आमतौर पर ये स्वास्थ्य बीमा में शामिल ही नहीं किए जाते हैं। एक अनूठी पेशकश के रूप में यह अन्य चिकित्सा खर्चों का भुगतान कर सकता है जो किसी अन्य मेडिकल बीमा में कवर नहीं होते हैं जैसे कॉस्मेटिक उपचार, अलजाइमर आदि। यही नहीं, ग्राहक इस रिजर्व राशि का उपयोग को-पेमेंट और कटौती योग्य खर्चों का भुगतान करने के लिए भी कर सकता है।

इस घोषणा के बारे में अपने विचार रखते हुए सूरज मिश्रा सीईओ दक्षिण और मध्य क्षेत्र, अपोलो म्युनिक हेल्थ इंश्योरेंस ने कहा, बदलती जीवन शैली के साथ भारत के लोगों की हेल्थ केयर आवश्यकताएं भी तेजी से बदल रही हैं और इसके साथ हमारा मानना है कि स्वास्थ्य बीमा क्षेत्र के लिए खुदको पुनर्पारिभाषित करना आवश्यक है ताकि ग्राहकों की उभरती आवश्यकताओं की पूर्ति की जा सके।

रिजर्व बेनिफिट का सबसे दिलचस्प हिस्सा यह है कि इससे आपका पैसा आपके लिए कमाता है। हरसाल अनुपयुक्त रिजर्व राशि आगे बढ़ा दी जाती है और इस पर 6% बोनस मिलता है। इस तरह एकत्र होने वाली रिजर्व राशि का उपयोग लगातार पांच बार नवीकरण के बाद नवीकरण के प्रीमियम का 50 प्रतिशत तक देने के लिए किया जा सकता है। इसमें कोई विवाद नहीं है कि यह स्वास्थ्य बीमा उद्योग में एक नई उपलब्धि है जो बचत और लाभ की भारतीय मनःस्थिति के अनुकूल है और ग्राहक बाद के वर्षों में इससे अपने स्वास्थ्य बीमा प्रीमियम अदा कर सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here