भारतीय सेना ने की बड़ी कार्रवाई: पीओके में किए कई आतंकी ठिकाने तबाह

0
111
Spread the love

आतंकी ठिकानों को पहुंचा जबरदस्त नुकसान, 20 आतंकवादी मारे गए, कई पाकिस्तानी सैन्य चौकियां ध्वस्त

पकिस्तान ने जब आतंकी घुसपैठ को अंजाम देने के लिए शनिवार रात अचानक भारतीय पोस्टों पर गोलाबारी शुरू कर दी। इसके जवाब में भारतीय सेना ने रविवार को अपने तोपखाने का मुंह खोलते हुए एलओसी पर जम्मू-कश्मीर के सीमावर्ती कुपवाड़ा जिले के तंगधार सेक्टर के पास सीमा पार स्थित कम से कम चार आतंकी शिविरों और पाक सेना के कई ठिकानों पर भीषण हमला किया, जिसमें छह से अधिक पाकिस्तानी सैनिक मारे गए और 20 आतंकवादी मारे गए।

थल सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत ने यहां एक कार्यक्रम में मीडिया को बताया कि पाकिस्तान के छह से 10 सैनिक मारे गए हैं। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान अगर ऐसी गतिविधियां जारी रखेगा तो भारतीय सेना जवाबी कार्रवाई से नहीं हिचकिचाएगी।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार भारतीय सेना की गोलाबारी में कम से कम 20 आतंकवादी मारे गए हैं। अनुमान है कि यह आंकड़ा बढ़ भी सकता है। बताया जा रहा है कि कई पाकिस्तानी सैन्य चौकियां ध्वस्त हो गई हैं। जवाबी कार्रवाई ऐसे समय की गई, जब शनिवार शाम पाकिस्तान की गोलीबारी में भारतीय सेना के दो जवान शहीद हो गए और एक नागरिक मारा गया।

भारतीय सेना के एक अधिकारी ने कहा कि पाकिस्तानी सेना ने शनिवार शाम तंगधार सेक्टर के भारतीय क्षेत्र में आतंकवादियों की घुसपैठ कराने के लिए अकारण संघर्ष विराम उल्लंघन शुरू कर दिया। उन्होंने कहा कि अगर पाकिस्तान सीमा पार से आतंकी गतिविधियों में मदद देना जारी रखता है, तो भारतीय सेना को अपने हिसाब के समय और जगह पर जवाब देने का अधिकार है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि यह सर्जिकल स्ट्राइक नहीं थी। भारतीय सैनिकों ने एलओसी के समीप आतंकियों के ठिकानों को लक्ष्य करते हुए अपनी कार्रवाई में आर्टिलरी बंदूकों का इस्तेमाल किया, लेकिन पीओके में प्रवेश नहीं किया।

अनुच्छेद 370 खात्मे के बाद से सीमा पार से थी लगातार घुसपैठ जारी: सेना प्रमुख

सेना प्रमुख बिपिन रावत ने कहा कि भारतीय सेना की जवाबी कार्रवाई से सीमा पार आतंकवादी ढांचे को जबरदस्त नुकसान हुआ है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को जानकारी दे दी गई है। राजनीतिक नेतृत्व और सेना बेहतर समन्वय के साथ काम कर रही है। आतंकवादी घुसपैठ करने का प्रयास करते, इससे पहले ही हमने आतंकी कैंपों को निशाना बनाने का फैसला किया। हमारे पास ठोस सूचना थी और जवाबी कार्रवाई में हमारे सुरक्षा बलों ने (एलओसी के) उस पार आतंकियों के बुनियादी ढांचे को भीषण नुकसान पहुंचाया। जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 के निष्प्रभावी किए जाने के बाद से सीमा पार से लगातार घुसपैठ जारी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here