दूरगामी आपदा प्रबंधन भी जरूरी

0
43

डॉ दिलीप अग्निहोत्री

कोरोना संकट का प्रकोप पहले के मुकाबले कम हुआ है,फिर भी वर्तमान स्थिति से निश्चिंत नहीं हुआ जा सकता। इस बार गांवों में भी संक्रमण का बहुत असर रहा। तीसरी लहर की आशंका व ब्लैक फंगस ने भी चिंता बढ़ाई है। ऐसे में किसी भी स्तर पर लापरवाही से बचने की आवश्यकता है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इस बात को बखूबी समझते है। इस कारण वह लगातार सक्रिय है। उनके प्रयास केवल राजधानी तक सीमित नहीं है। बल्कि वह प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओं, एकीकृत कोविड़ कमांड को भौतिक स्तर पर देख रहे है। कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आने के कुछ घण्टे बाद से ही योगी आदित्यनाथ जनपदों की यात्रा कर रहे है। दस दिन में वह ग्यारह मंडलों व तीस से अधिक जनपदों में समीक्षा बैठक कर चुके है। इसमें मंडल मुख्यालय से संबंधित जनपदों के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक भी शामिल है।

योगी आदित्यनाथ जहां भी गए, वहां उन्होंने कोविड अस्पतालों के साथ ही एकीकृत कमांड का भी निरीक्षण किया। वह संक्रमित लोगों से भी मिल रहे है। मेरठ में तो मुख्यमंत्री पैदल कंटेनमेंट जोन वाली गली में गए। कंटेनमेंट जोन से लोग बाहर न निकलें,इसलिए पुलिस ने चारपाई खड़ी की थी। यहां रुक कर मुख्यमंत्री ने संक्रमित लोगों से संवाद किया। बिजौली के कंटेंनमेंट जोन के लोगों ने योगी आदित्यनाथ को देख कर प्रसन्नत व्यक्त की।

योगी आदित्यनाथ की यात्राओं का यह क्रम मुरादाबाद और बरेली मंडल से शुरू हुआ था। यह जारी है। गोरखपुर, अयोध्या,काशी, बस्ती, अलीगढ़,आगरा,मथुरा और मेरठ नोयडा गाजियाबाद मुजफ्फर नगर सहारनपुर में आपदा प्रबंधन का वह निरीक्षण कर चुके है। बत्तीस जनपदों के अधिकारियों को वह बेहतर प्रबंधन के दिशा निर्देश सीधे व वर्चुअल माध्यम से दे चुके है। इंटीग्रेटेड कोविड कमांड वैक्सीनेशन सेंटर की व्यवस्था भी देख रहे है। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आबादी के हिसाब से उत्तर प्रदेश देश का सबसे बड़ा राज्य है। लेकिन प्रदेश ने पूरी तैयारी के साथ कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर का सामना किया।

अप्रैल माह में कोरोना के प्रदेश में जहां एक लाख से अधिक केस आ रहे थे। वहीं उस पर पूरी तरह से अंकुश लगाते हुए कमी लाई गई। तीस अप्रैल तक उत्‍तर प्रदेश में तीन लाख पाजिटिव केस मिले,लेकिन अब पाजिटिविटी में काफी गिरावट आ गई है।  कोरोना की दूसरी लहर में आक्सीजन तथा रेमडेसिविर के लिए लोगों में होड़ लग गई थी। आपदा के समय धैर्य हमारा मित्र होता है।

उन्होंने कहा कि जब जनता के लोगों का मनोबल बढाना चाहिए था उस समय कुछ लोगों ने भ्रांति फैलाने का काम किया। उन्होंने कहा कि एक समय अव्यवस्था की स्थिति बनी लेकिन उस पर पूरी तरह से कंट्रोल कर लिया गया। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस संकमण की दूसरी लहर पर काबू करने की तैयारी पूरी की जा रही है। अब कोरोना की दूसरी लहर नियंत्रण में है। तीसरी लहर के लिए भी पूरी तरह से तैयारी कर ली गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here