मंजिल

1
832
चलते चलते थक गए
तन मन दोनों पाँव
व्याकुल होकर ढूंढ रहे
मिल जाये अब छांव।।
मंजिल का कुछ पता नहीं
होने को है शाम।
पथरीली यह राह है
 पल भर का विश्राम।।
अंधियारा है दूर तक
साथ दे रहा चांद।
झुरमुट तक बिखरी हुई
परछाई है साथ।।
– डॉ दिलीप अग्निहोत्री

1 COMMENT

  1. Greate article. Keep posting such kind of info on your blog.
    Im really impressed by your blog.
    Hello there, You’ve done an incredible job. I will definitely digg it and personally suggest to my friends.
    I’m confident they’ll be benefited from this web site.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here