14 पोषक-तत्वों का स्रोत है बादाम, दिल को रहता दुरुस्त

0
322

वर्ल्‍ड हार्ट डे (29 सितंबर) पर बादाम खाकर अपने दिल को बनाएं स्‍वस्‍थ

हर साल 29 सितंबर को वर्ल्‍ड हार्ट डे मनाया जाता है, ताकि कार्डियोवैस्कुलर डिसीज (सीवीडी) और उनकी रोकथाम पर जागरूकता उत्पन्न की जा सके। वर्ल्‍ड हार्ट डे दुनियाभर के लोगों को याद दिलाता है कि वे अपने और अपने परिवार के लिये लाइफस्‍टाइल से संबंधित विकल्‍पों का मूल्‍यांकन करना शुरू करें और इस रोग से अपने स्वास्थ्य की सुरक्षा का ध्‍यान रखने के लिये कठोर कदम उठाने की जरूरत को पहचानें।

शोध से पता चला है कि अपनी आनुवांशिकी के कारण भारतीय हृदय रोगों के लिये ज्यादा संवेदनशील होते हैं।कार्डियोवैस्कुलर डिसीज कई भारतीय परिवारों के लिये स्वास्थ्य सम्बंधी एक गंभीर चिंता बन रहे हैं, लेकिन बदलाव लाने और जोखिम के कारकों को कम करने में डाइट तथा जीवनशैली से सम्बंधित सुधार एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं, ताकि हृदय का स्वास्थ्य बेहतर हो।

दुनियाभर के लोग न्यू नॉर्मल के अनुकूल बनने के लिये अपनी लाइफस्‍टाइल में बदलाव कर रहे हैं और स्वास्थ्य की देखभाल करना किसी भी काम से ज्यादा जरूरी है। हृदय के स्वास्थ्य को बेहतर करने का पहला चरण है हृदय को स्वस्थ रखने वाले आहार लेना। अपने और परिवार की रोजाना की डाइट में एक मुट्ठी बादाम जैसे नट्स शामिल करना अच्छी शुरूआत हो सकता है, क्योंकि बादाम में कई पोषक-तत्व होते हैं, जो उसे स्नैकिंग का एक स्वास्थ्यकर विकल्प बनाते हैं और आपके हृदय के स्वास्थ्य को भी बेहतर बना सकते हैं।

हृदय को स्वस्थ रखने वाली जीवनशैली के महत्व के बारे में बॉलीवुड की अभिनेत्री सोहा अली खान ने कहा, ‘‘कार्डियोवैस्कुलर डिसीज भारत के परिवारों में आम होती जा रही हैं। लाइफस्‍टाइल और आहार में छोटे, लेकिन प्रभावी बदलाव कर हम खुद को और अपने परिवार को सीवीडी से बचाने के लिये सार्थक प्रयास कर सकते हैं। और इसके सबसे आसान तरीकों में से एक है अपनी डाइट में बादाम जैसे हेल्‍दी फूड्स शामिल करना। बादाम 14 मौलिक पोषक-तत्वों का स्रोत होते हैं, जैसे विटामिन ‘ई’, मैग्नीशियम, प्रोटीन, रिबोफ्लेविन, जिंक, आदि। शोध भी कहता है कि बादाम के नियमित सेवन से एलडीएल और टोटल कोलेस्‍ट्रॉल कम करने में प्रभावी मदद मिल सकती है, जिससे बीतते समय के साथ आपका और आपके परिवार का हृदय का स्वास्थ्य बेहतर होगा।’’

फिटनेस और सेलीब्रिटी इंस्ट्रक्टर यास्मिन कराचीवाला के अनुसार, ‘‘सही वजन बनाये रखकर आप डायबिटीज, उच्च कोलेस्‍ट्रॉल और हाई ब्लड प्रेशर का जोखिम कम कर सकते हैं – इन सभी का कार्डियोवैस्कुलर डिसीज से सम्बंध है। इसके लिये, मैं रोजाना कम से कम 30 मिनट एक्‍सरसाइज करने की सलाह देती हूँ,।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here