ताइक्वांडो हाल ऑफ फेम इण्डिया-2017’ समारोह में दिखा दीपावली माहौल

0
611

41 साल बाद मिले ताइक्वांडो के कई पुराने साथी


लखनऊ 22 अक्टूबर। आर्मी, सर्विसेज, रेलवे सहित कई महत्वपूर्ण प्रक्रमों में ताइक्वांडो की आधारशिला रखने वाले लखनऊ के मो.नदीम, मणिपुर विधानसभा के स्पीकर वाई.खेमचंद्र, विख्यात फिल्म अभिनेत्री नीतू चंद्रा आज किसी पहचान की मोहताज नहीं है। इनके साथ देश के लिए ताइक्वांडो में इंटरनेशनल लेवल तक चमक बिखेर चुके प्लेयर्स व कोच तथा ताइक्वांडो से जीवन सफल बनाने की कला सीख चुके उद्यमी व व्यवसायियों सहित 65 विभूतियों को ताइक्वांडो फेडरेषन ऑफ इंडिया (टीएफआई) की 41वीं वर्षगांठ के अवसर पर 22 अक्टूबर को ‘ताइक्वांडो हाल ऑफ फेम इण्डिया-2017’ सम्मान से सम्मानित किया गया। गोमतीनगर स्थित होटल रेनेषा में आयोजित इस समारोह का उद्घाटन अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी व माननीय खेल व युवा कल्याण मंत्री यूपी सरकार श्री चेतन चौहान जी ने किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता पूर्व केन्द्रीय मंत्री, सांसद एवं ताइक्वांडो संघ के अध्यक्ष श्री कलराज मिश्रा ने की। इस दौरान बॉलीवुड अभिनेत्री नीतू चंद्रा (इंटरनेशनल प्लेयर, पॉयनियर), आगरा के महंत योगेश पुरी (नेशनल मेडलिस्ट, प्रमोटर्स), खेमचंद्र (स्पीकर, मणिपुर विधानसभा, इंटरनेशनल प्लेयर्स, पॉयनियर), सहित अनेकों लोगों को यह सम्मान दिया गया।  इनमें किरन उपाध्याय (इंटरनेशनल मेडलिस्ट, प्रमोटर्स), हरीश गिडवानी (कमिष्नर, इन्कम टैक्स), सैयद रफत (इंटरनेशनल प्लेयर्स, सफल व्यवसायी), मो.नदीम (इंटरनेशनल मेडलिस्ट, प्रमोटर्स), सुधीर हलवासिया (शिक्षाविद, व्यवसायी, प्रमोटर्स), महेंद्र मोहन जायसवाल (फिल्म अभिनेता टाइगर श्राफ के कोच, प्रमोटर्स) दीपक गिडवानी (सीनियर पत्रकार, प्रमोटर्स) का भी सम्मान हुआ। इस दौरान फिल्म अभिनेता टाइगर श्राफ का हाल ऑफ फेम अवार्ड उनके कोच महेंद्र मोहन जायसवाल ने प्राप्त किया।
इस दौरान सैयद रफत ने कहा कि आज 41 साल बाद दीपावली के अवसर पर ताइक्वांडो के सभी पुराने दिग्गज आपस में मिले है। अतः भारतीय ताइक्वांडो के इतिहास में यह मौका दीपावली से कम नहीं है।
इन विभूतियों को ताइक्वांडो फेडरेशन ऑफ इंडिया की ओर से सम्मान के तहत हाल ऑफ फेम स्मृति चिन्ह, पदक, टाईपिन व बैच लगाकर सम्मानित किया गया। इस दौरान 1975 से लेकर 1985 तक के अंतर्राष्ट्रीय ताइक्वांडो प्रतियोगिताओं, अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ियों एवं उसके उपरांत फिल्मी जगत, व्यापार, व्यावसायिक, राजनीतिक, चिकित्सक व प्रषासनिक क्षेत्र में उपलब्धि हासिल करने वाले ताइक्वांडो प्लेयर्स के एक जगह जमा होने से एकदम किसी कॉलेज की रियूनियन पार्टी जैसा दृष्य बन गया जिसमें इन सम्मानित दिग्गजों ने अपने पुराने साथियों से मुलाकात की और अपने खेल जीवन के दिनों की यादों को दोबारा ताजा किया। सबने इस तरह सम्मानित होने को अमूल्य बताया और कहा कि अपने घर में इस तरह सम्मानित होना अच्छा लगा और ताइक्वांडो फेडरेषन ऑफ इंडिया द्वारा भारतीय खेलों के इतिहास में पहली बार हाल ऑफ फेम की स्थापना किया जाना काफी सराहनीय है और इसके लिए फादर ऑफ ताइक्वांडो ऑफ इंडिया जिम्मी आर जगत्यानी और उनकी पूरी टीम बधाई की पात्र है।
इस दौरान श्री बृजेश पाठक (माननीय कैबिनेट मंत्री यूपी सरकार), यूपी ओलंपिक संघ के महासचिव आनन्देष्वर पांडेय सहित कई गणमान्य अतिथि मौजूद थे।  इस अवसर पर ताइक्वांडो फेडरेशन ऑफ इंडिया की 41वीं वर्षगांठ के मौके पर काटा गया। इस दौेरान ताइक्वांडो हाल ऑफ फेम स्मृतिका का विमोचन भी किया गया।

सम्मानित होने वाली विभूतियों के नाम

सैयद रफत (यूपी), सुधीर हलवासिया (यूपी), राकेश लाधानी (यूपी), पीटर जगत्यानी (यूपी), आनंद पांडे (यूपी), अशोक भार्गव (यूपी), हरीश गिडवानी (यूपी), महंत योगेश पुरी (यूपी), एस.जावेद (यूपी),  दीपक गिडवानी (यूपी), दिनेश कुमार सिंह (यूपी),  मो.नदीम (यूपी), मो.रईस (यूपी), प्रहलाद रूपानी (यूपी), अमित यादव (यूपी), एसएस रिजवी (यूपी), राम गोपाल बाजपेयी (यूपी), शिव पाठक (यूपी), मो.शाहनवाज (यूपी), हरिओम मिश्रा (यूपी), मदन लाल (यूपी), किरन कष्यप (यूपी), संजय तिवारी (यूपी), राकेष गुप्ता (यूपी), संजय राना (यूपी), इष्तियाक अहमद (यूपी), अरूण थापा (यूपी ), रोहिताष्व पोद्दार (महाराष्ट्र), महेंद्र मोहन जायसवाल (महाराष्ट्र), नीतू चंद्रा (महाराष्ट्र), किरन उपाध्याय (महाराष्ट्र), प्रेम गुरंग (महाराष्ट्र), दीपक कुमार (महाराष्ट्र), आषीष पांडे (दिल्ली), नरेष सिंह (दिल्ली),  मनोज त्यागी (उत्तराखंड), एम.नगूर (आंध्र प्रदेष), पी.चैतन्या (आंध्र प्रदेष), ज्ञानेंद्र कुमार उपाध्याय (आर्मी), बीएस हांडा (चंडीगढ़), अमिता मारवाह (चंडीगढ़), महेष प्रिदलानी (दुबई), वीनू भाई परमा (गुजरात), रमेष खन्ना (हरियाणा), विष्णु कुमार षर्मा (हिमाचल प्रदेष), गौरव अरोड़ा (जम्मू-कष्मीर), अरूण कुमार श्रीवास्तव (झारखंड), अनिल फ्रांसिस (केरल),एम.सुंदरम (कर्नाटक), वाई.खेमचंद (मणिपुर), इंद्र कुमार सिंह (मणिपुर), गजानंद सुनहरे (मध्य प्रदेष), आर.पणिग्रही (ओडिषा), सतपाल रेहल (पंजाब), चरनजीत एस.सूद (राजस्थान), मनोज अग्रवाल (राजस्थान), केवि बाबू राव (तमिलनाडु), जॉन एलेक्जेंडर (तमिलनाडु), के.बाबू (तमिलनाडु), रूपकमल नंदी (पष्चिम बंगाल), गोपाल झा (बिहार)

युवा मंगल दल बदलेगा प्रदेश में खेल का माहौलः चेतन चौहान
इस मौके पर खेल मंत्री चेतन चौहान ने कहा कि अब खेल को प्रोफेशनल के तौर पर लिया जाता है जिसका फायदा प्लेयर्स को मिल रहा है। हम प्रदेष में खेल के माहौल को बेहतर बनाने के लिए युवा मंगल दल बनाएंगे जो गांव-गांव जाकर खेल की नींव मजबूत करेगा।  यहीं नहीं हर जिले से विधायक और सांसद अपने क्षेत्र में स्टेडियम बनाने का निवेदन करते है। यह बदल रहे माहौल का संकेत है। हमारा लक्ष्य है कि अगले दस साल में कम से कम 5 गोल्ड मेडल यूपी को इंटरनेशनल लेवल पर मिले। इसके लिए हमने खेल सुविधाओं को बढाया है। इसके लिए खेल की डायट मनी 100 रुपए से बढ़ाकर 250 रुपए तथा किट मनी 1000 से बढ़ाकर 2500 रुपए की। यहीं नहीं नेषनल खेल अवार्ड से सम्मानित प्लेयर्स को 20 हजार रुपए की मासिक पेंशन भी दी जाएगी। उन्होंने कहा कि ताइक्वांडो आत्मरक्षा के लिए एक बेहतरीन खेल है तथा आत्मरक्षा के लिए लोगों को ताइक्वांडो का प्रशिक्षण लेना चाहिए।

सैयद रफत: जिस तरह दीपावली के अवसर पर भगवान राम अयोध्या पहुंचे और उनका उनके भक्तों से पुनःमिलन हुआ। उसी तरह से आज 41 साल बाद दीपावली के अवसर पर ताइक्वांडो के सभी पुराने दिग्गज आपस में मिले है। अतः भारतीय ताइक्वांडो के इतिहास में यह मौका दीपावली से कम नहीं है।
नीतू चंद्रा: हमारे पास अच्छे कोच है जरूरत ये है कि उनको विदेषी एडवांस तकनीकों का रिफ्रेषर कोर्स कराया जायेगा। इससे हमारे कोच देष में ताइक्वांडो को एक नई ऊचाईयों पर ले जाएंगे। जहां तक ताइक्वांडो की बदौलत मेरी आज की नींव पड़ी है। पिफटनेस से लेकर अनुशासन तक सबकी सीख मुझे ताइक्वांडो से मिली है। मेरे विचार से महिला आत्मरक्षा के लिए हर स्कूल व कॉलेज में ताइक्वांडो का प्रषिक्षण देना चाहिए।
खेम चंद्र: खिलाड़ियों को नौकरी ज्यादा मिले इसके लिए सरकार से अनुरोध किया गया है। ताइक्वांडो का आंदोलन जिम्मी सर के नेतृत्व में नई ऊंचाईयों को छूएगा ऐसी मेरा विष्वास है।
महंत योगेश पुरी: खेलों में अगर भारत को महाशक्ति बनाना है तो खेल संघों में खिलाड़ियों की भूमिका बढ़ानी चाहिए।
मो.नदीम: ताइक्वांडो आत्मरक्षा की एक बेहतरीन आर्ट है तथा मुझे विष्वास है कि जिम्मी सर के नेतृत्व में ताइक्वांडो के प्लेयर्स नए कीर्तिमान बनाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here