पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति को मिली जमानत, रेप केस का था मामला

0

लखनऊ- लगभग एक महीने जेल में रहने के बाद रेप केस में फंसे उत्तर प्रदेश के पूर्व कैबिनेट मंत्री और सपा  नेता गायत्री प्रसाद प्रजापति को पॉस्को कोर्ट से जमानत मिल गई है। 17 फ़रवरी को सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद उनकी गिरफ़्तारी लखनऊ पुलिस ने की थी उनके तथा उनके साथियों के खिलाफ बुंदेलखंड की महिला पार्षद और उसकी बेटी के साथ सामूहिक दुष्कर्म का मामला दर्ज था।

यूपी के पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति का मंगलवार का दिन बहुत शुभ रहा। उन्हें और उनके दो साथी पिंटू और विकास को लखनऊ की पॉस्को कोर्ट ने एक एक लाख रुपये के मुचलके पर जमानत दे दी है. गायत्री प्रजापति देर शाम तक जेल से रिहा हो सकते हैं।

क्या था पूरा मामला –
रेप पीड़िता के मुताबिक, साल 2014 में नौकरी और प्लॉट दिलाने के बहाने उसे गायत्री प्रसाद प्रजापति ने लखनऊ स्थित गौतमपल्ली आवास पर बुलाकर चाय में नशीला पदार्थ मिलाकर पिला दिया। इसके बाद बेहोशी की हालत में मंत्री और उसके सहयोगियों ने सामूहिक दुष्कर्म किया। इसका अश्लील वीडियो बनाया और तस्वीरें भी ली थीं। जिनके जरिए गायत्री प्रसाद प्रजापति और उनके सहयोगी २ साल तक उसे और उसकी बेटी को हवस का शिकार बनाते रहे। इससे तंग आकर उसने 7 अक्टूबर 2016 को थाने में तहरीर दी, लेकिन उस पर पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। इसके बाद पीड़िता आलाधिकारियों से भी मिली थी। लेकिन उनके द्वारा भी कोई कार्यवाही नहीं हुई
तब पीड़िता ने हाई कोर्ट का भी दरवाजा खटखटाया, लेकिन वहां उसकी एक न चली और हाई कोर्ट ने याचिका को खारिज कर दिया। इसके बाद भी पीड़िता हार नहीं मानी, पीड़िता ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया तब जाकर सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर लखनऊ पुलिस ने फरार चल रहे गायत्री को गिरफ्तार कर जेल भेजा।