39 साल के विदेशी मरीज के सीने से निकाला गया फुटबॉल के आकार का ट्यूमर

0

दिल्ली के एक अस्पताल में पिछले दिनों रूस के 39 वर्षीय मरीज की जटिल सर्जरी करके फुटबॉल के आकार का ट्यूमर निकाला गया जिसका वजन 3.2 किलोग्राम था और यह दांये फेफडे के पास बडी जगह में फैल गया था।
फोर्टिस अस्पताल, बसंत कुंज के ओन्को सर्जनों ने रूस के एमिल अब्दुल्लाएव की यह जोखिम वाली सर्जरी की।
अस्पताल ने आज एक बयान में बताया कि एमिल पिछले पांच साल से सांस लेने में तकलीफ का सामना कर रहे थे। जांच करने पर पता चला कि उनके सीने में एक ट्यूमर धीरे धीरे बढता जा रहा है और फुटबॉल के आकार का हो गया है। उनके दांये फेफडे पर अत्यधिक दबाव बढ रहा था।
अस्पताल के थोरासिक ओन्को सर्जरी के निदेशक डॉ सब्यसाची बल के नेतृत्व में डॉक्टरों की एक टीम ने चार घंटे तक सर्जरी करके इस ट्यूमर को सावधानीपूर्वक निकाला।
रूस में भी रोगी ने इस तरह की सर्जरी कराने का फैसला किया था लेकिन डॉक्टरों ने इसे जोखिमभरा समझकर बीच में ही छोड दिया था। हृदय को रक्त पहुंचाने वाली नलिकाओं और अन्य अंगों को छूते हुए यह ट्यूमर बडी समस्या पैदा कर रहा था।
डॉ सब्यसाची ने कहा कि हालांकि इस तरह के ट्यूमर बहुत खतरनाक नहीं होते और एक बार शरीर से बाहर निकाले जाने के बाद दोबारा पैदा नहीं होते। उन्होंने कहा कि इसके बढने के कारण साफ नहीं थे।
उन्होंने कहा कि ऐसे ट्यूमर पर धूम्रपान का कोई दुष्प्रभाव देखने में नहीं आया है। हालांकि धूम्रपान नहीं करने वाले रोगियों के शरीर में से इस तरह के ट्यूमर को निकालने के परिणाम धूम््रापान करने वाले रोगियों की तुलना में अच्छे होते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here