लोगों को समझने की कोशिश करें!

0
1757

दोस्तो! एक आदमी अपनी नयी पपी शॉप खोलता है और उस पर बोर्ड लगाता है ‘पपीज फॉर सेल’। जब वह बोर्ड की आखिरी कील ठोक रहा होता है, तो उसे महसूस होता है कि कोई उसकी पैंट नीचे से पकड़ कर खींच रहा है। वह देखता है. उसे एक छोटा-सा बच्चा दिखता है, जो स्कूल यूनिफॉर्म पहने हुए था। टाइ पहने हुए था। चश्मा लगाये हुए था, उसके कपड़े धूल से सने थे।
वह कहता है। अंकल, मैं आपकी दुकान से एक पपी खरीदना चाहता हूं। दुकानदार कहता है, बेटा यह पपी बहुत महंगे हैं।

आप इन्हें नहीं खरीद सकोगे। बच्चा अपने जेब से 20 का नोट निकालता है। दूसरी जेब से तीन सिक्के निकालता है और दुकानदार को देते हुए कहता है। अंकल आप ये 23 रुपये रख लो, लेकिन क्या मैं थोड़ी देर आपकी शॉप में पपी के साथ खेल सकता हूं? अंकल मुस्कुराते हैं। वे उसे रुपये वापस जेब में रखने को कहते हैं और खुशी-खुशी उसे पपी के साथ खेलने देते हैं लोगों को समझने की कोशिश करें प्यारे-प्यारे पपी को देख बच्चे की आंखों में चमक आ जाती है। वह उनकी हरकत देख तालियां बजाने लगता है।

तभी उसकी नजर कोने में दुबक कर बैठे एक भूरे रंग के पपी पर जाती है, जो बिल्कुल भी खुश नजर नहीं आ रहा था और खेल भी नहीं रहा था। बच्चा उसे दिखाते हुए अंकल से कहता है, अंकल क्या मैं ये पपी खरीद सकता हूं? बाकी पैसे बाद में दे दूंगा। अंकल कहते हैं, तुम खरीद सकते हो, क्योंकि यह बहुत सस्ता पपी है। लेकिन, बेटा इसको खरीदने से कोई फायदा नहीं है. इसकी एक टांग टूटी हुई है। यह ठीक से चल-फिर नहीं सकता है।

यह तुम्हारे साथ खेल भी नहीं सकेगा। न ही गेंद को दौड़ कर पकड़ कर तुम्हारे पास ला सकेगा। यह सुन बच्चा अपनी पैंट को थोड़ा ऊपर करता है। अंकल देखते हैं कि बच्चे का एक पैर टूटा है। उसके पैर पर रॉड लगी हुई है। बच्चा कहता है, मेरी भी एक पैर नहीं है। मैं भी भाग नहीं सकता। अंकल, दे दो न मुझे पपी। उसको भी कोई मिल जायेगा, जो उसे समझ सके और मुझको भी कोई मिल जायेगा, जो मुझे समझ सके, दोस्तों, दुनिया भरी पड़ी है ऐसे लोगों से, जो चाहते हैं कि उन्हे कोई समझे। आप वह इनसान बनें।

बात पते की..

  1. रिलेशंस से जुड़ी आज सबसे बड़ी समस्या यही है कि लोग अपनी बात जरूर समझाना चाहते हैं, लेकिन दूसरों की बात समझना नहीं चाहते।
  2. जरूरी नहीं है कि आप दूसरों के बारे में जो सोच रहे हैं, वह सच है. आप दूसरों से जुड़ना चाहते हैं, तो उन्हें वक्त दें। उनसे बात करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here