BHU की छात्राओं का धरना 30 घण्टे से लगातार जारी, कांग्रेस ने कहा बहुत ही शर्मनाक

0

बनारस 23 सितम्बर। बीएचयू में एक बार फिर उबाल है इस बार बीएचयू की छात्राओं का धरना लगातार 30 घण्टे से जारी है। पहले संकाय पर छेड़खानी, फिर संकाय से हॉस्टल जाते समय छेड़खानी, हॉस्टल के अंदर जबरिया घुसकर छेड़खानी। सुरक्षाकर्मियों से कई बार शिकायत कर चुकीं, प्रॉक्टर को दिक्कतें बता चुकीं। वीसी को कई शिकायती पत्र दे चुकीं। इसके बाद भी कोई कार्रवाई नहीं होने पर सड़क पर उतरी हैं।

बताया जाता है कि बिना किसी लीडरशिप के छात्राएं मेन गेट पर डटी हुई हैं। एक छात्रा अपनी बात पूरी करती है तो दूसरी बोलने लगती है। दूसरी छात्रा बात पूरी करती है तो तीसरी खड़े होकर अपनी दिक्कतें सुनाने लगती है।

छात्राएं चाहती हैं कि वीसी मौके पर आकर उनकी बात सुनें, उन्हें तसल्ली दें कि व्यवस्था दुरुस्त की जाएगी, तो इसमें ईगो क्यों? छात्राओं के चरित्रहनन की कोशिश क्यों? उनके फेसबुक आईडी की पड़ताल क्यों?

बताया जाता है कि बीएचयू प्रशासन छात्राओं की परेशानी सुनना दो दूर उस पर ध्यान भी नहीं देता और कुछ लोग बजाए इनके साथ खड़े होने के वीसी के पक्ष में खड़े हो गए हैं। जिससे मामला बिगड़ गया है छात्राओं का कहना है कि धरना दे रही 95 प्रतिशत छात्राएं काशी के बाहर की हैं। यहां पढ़ने आई हैं, नेतागीरी करने नहीं। पानी जब सिर से ऊपर निकल गया, जब सरेराह परिसर में ही छात्रा के कपड़े फाड़ने की कोशिश हुई, तब इन्हें सड़क पर उतरना पड़ा है।

छात्राओं को अपनी आवाज उठाने के लिए सड़क पर बैठना पड़ा है यह बहुत ही शर्मनाक: कांग्रेस

लखनऊ 23 सितम्बर। बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय की दर्जनों छात्राओं के साथ दबंग छात्रों द्वारा जो दुर्व्यवहार किया गया है वह प्रदेश सरकार की लचर कानून व्यवस्था का परिचायक है। इसके बाद भी विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा घटना के संज्ञान में आने के बाद भी उस पर कोई ठोस कार्यवाही न करने पर छात्राओं को अपनी आवाज उठाने के लिए सड़क पर बैठना पड़ा है यह बहुत ही शर्मनाक है। उत्तर प्रदेश महिला कांग्रेस की अध्यक्ष श्रीमती प्रतिमा सिंह ने कहा कि बड़ी हैरानी की बात है कि देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी दो दिनों से अपने संसदीय क्षेत्र बनारस में विभिन्न कार्यक्रमों में भाग ले रहे हैं और शक्ति के महापर्व नवरात्र पर उन्हें सड़क पर बैठी न्याय पाने के लिए आवाज उठातीं बेटियों की आवाज सुनाई नहीं दे रही है।
श्रीमती सिंह ने कहा कि प्रशासन को तत्काल छात्राओं से बातचीत करनी चाहिए और उन्हें आश्वस्त करना चाहिए कि वे विश्वविख्यात बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय में सुरक्षित वातावरण में अपनी शिक्षा पूरी करेंगीं।
उप्र महिला कांग्रेस बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय में छात्राओं के साथ हुए दुर्व्यवहार की घटना की जांच कराकर दोषियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही किये जाने की मांग करती है।