एक मोहब्बत की दूरियाँ और मजबूरियां

0

हेमंत पाल 

अक्टूबर के इस सप्ताह बालीवुड की सदाबहार जोडी अमिताभ और रेखा दोनों का जन्मदिन हैं  एक दिन आगे-पीछे जन्मे अमिताभ और रेखा कभी फिल्मों में एक दूसरे के आगे पीछे घूमते थे। रही बात परदे पर इनकी केमिस्ट्री की, तो इस जोडी को भी दर्शकों ने राजकपूर और नर्गिस या धर्मेन्द्र हेमा मालिनी की जोडी की तरह सराहा और पसंद किया। आज भी  रेखा और अमिताभ की  सदाबहार और खूबसूरत जोड़ी का जिक्र होता है। लोग दोनों की अधूरी प्रेम कहानी को भी याद करते हैं। अमिताभ बच्चन और रेखा का नाम बॉलीवुड की दुनिया में जोड़ियों की लिस्ट में काफी चर्चित नाम हैं।  दो अनजाने से बनी इस बालीवुड  की बेहतरीन जोड़ी ने आखिरी बार यश चोपड़ा की रोमांटिक ड्रामा फिल्म ‘सिलसिला’ में एक साथ काम किया था।

अमिताभ का साथ मिलते ही रेखा का फिल्मी कैरियर उडाने भरने लगा। मानो अमिताभ उनके लिए किस्मत की लॉटरी का टिकट लेकर आए हों। मशहूर फिल्म निर्देशक प्रकाश मेहरा की फिल्म ‘मुकद्दर का सिकंदर’ में रेखा और अमिताभ की जोड़ी ने पहली बार शोहरत के आसमान को छुआ था। देखते ही देखते इस जोड़ी ने हिन्दी सिनेमा के इतिहास में अपना नाम दर्ज कराया था। हिन्दी सिनेमा की जोड़ियों की एक पुरानी आदत है कि पर्दे पर दिखाई गई प्रेम कहानी निजी जिंदगी की भी प्रेम कहानी बन जाती है। रील लाइफ के प्यार को रियल लाइफ के प्यार में बदलने की जो परंपरा राजकपूर-नर्गिस, देवआनंद-सुरैया, दिलीप कुमार-मधुबाला, ऋषि कपूर-नीतू सिंह, रणधीर कपूर-बबीता और धर्मेन्द्र हेमा मालिनी ने आरंभ की थी। उसी परम्परा को अमिताभ-रेखा ने बड़े प्यार से आगे बढाया। जैसे-जैसे इन दोनों की फिल्में बॉक्स ऑफिस पर सुपरहिट होने लगी, वैसे-वैसे ही निजी जिंदगी में भी इनका प्यार गहरा होता चला गया। दोनों की एक साथ की गई सुपरहिट फिल्में सुहाग, मि. नटवरलाल, गंगा की सौगंध, नमक हराम, खून पसीना और सिलसिला हैं।

अमिताभ पर अपने हुस्न का जादू चलवाने के लिए रेखा ने खुद को पूरी तरह बदल दिया था। बतौर अभिनेत्री पहली हिंदी फिल्म सावन भादो में सांवली और मोटी सी दिखने वाली रेखा, अमिताभ से प्यार के बाद काफी बोल्ड दिखने लगी थीं। इन दोनों के चाहने वाले आज भी फिल्म ‘सिलसिला’ में दिखाई गई अमिताभ और रेखा की लव स्टोरी को याद करते हैं। फिल्म ‘कुली’ की शूटिंग के दौरान हुए हादसे के बाद फिल्मी दुनिया के दो परिंदों की सच्ची प्रेम कहानी का अंत हो गया था। ‘कुली’ के दौरान घायल अमिताभ की जान की दुआ मांगने के लिए रेखा ने वह सब किया जो शायद ‘किसी’ ने नहीं किया होगा। उज्जैन आकर महामृत्युंजय जाप और परिक्रमा के प्रभाव से अमिताभ तो बच गए! लेकिन, दोनों के बीच प्यार नहीं बच पाया।
इस दौरान दोनों के बीच एक तनाव की स्थिति निर्मित हो गई, जिस वजह से दोनों के सिवा तीसरा कोई नहीं जानता था! आज भी यह बात राज ही है कि ‘कुली’ के दौरान हुई घटना के बाद ऐसा क्या हो गया था जो अमिताभ और रेखा को एक-दूसरे का साथ छोड़ना पड़ा। बीच-बीच में दोनों के बीच सौहार्दपूर्ण वातावरण की खबरें आती है। पिछले दिनों एक कार्यक्रम में जया और रेखा आमने सामने आ गए और दोनों ने एक दूसरे का अभिवादन कर शिष्टाचार और सौहाद्रता का परिचय दिया जो वास्तविक कम और फिल्मी ज्यादा दिखाई दे रहा था।
हेमंत पाल जी के ब्लॉग से साभार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here