जाति के किलेबंदी से जनता को घेरने की तैयारी

0
713

चुनाव हो और राजनितिक दल चुनाव के मुद्दे में जाति को कैश न कराएं ऐसा हो ही नहीं सकता! दरअसल वह वोटर की नब्ज़ को अच्छी तरह से टटोलना जानते हैं। लेकिन यह अपने राजनितिक दल के लिए स्वार्थ की बात है, वास्तव में यह परस्पर गिर रही राजनीति की नीचता का परिचायक है लोगों के जमीनी मुद्दे पर बात करना तो दूर की बात है। वह यह अच्छी तरह जानते है वोटर का वोट पाना है तो सिर्फ जाति के मुद्दे पर ही मिल सकता है इसके लिए उन्हें चाहे किसी भी हद तक जाना पड़े। वास्तव में हर चुनाव में कमोबेश सभी राजनीतिक दल जातीय कार्ड खेलते हैं। इस बार भी यह धड़ल्ले से जारी है।

हालांकि तीन चरण तक जो चुनाव हुए, उनमें जात-पात को सधे अंदाज में इस्तेमाल किया गया। मगर चौथा चरण आते-आते चुनाव जाति आधारित हो गया। कोई पिछड़ा होने का राग आलाप रहा है तो कोई जातीय क्रम में खुद को शामिल करने की जद्दोजहद में लगा है। सवाल यह उठता है कि क्या चुनाव जाति को माइनस करके भी हो सकते हैं? हाल के वर्षो में जिस तरह से जातीय समीकरणों की मजबूत किलेबंदी कर उम्मीदवारों का चयन किया जाता है, वह साफ तौर पर परिलक्षित करता है कि भारतीय राजनीति में जाति का बोलबाला कभी खत्म नहीं होगा। लोहिया राजनीति में जातीय प्रभुत्व के घोर आलोचक थे।

उन्होंने कभी भी जाति को राजनीति के साथ चस्पा नहीं किया। यही वजह थी कि उस दौर में कई नेताओं ने जातीय सूचक या जातीय आधारित सरनेम को तिलांजलि दी। मगर अफसोस यह चलन ज्यादा वक्त तक सफर तय नहीं कर सका। यह सर्वविदित है कि जाति प्रेम भारत को पीछे ले जाने वाले सबसे बड़े उपादानों में है। हर दल और नेता जाति रूपी जिन्न को बोतल में बंद करने की बात तो करता है, किंतु हकीकत में वह उस ढक्कन को अधखुला रखता है, जिससे जिन्न के बाहर निकलने में आसानी हो। जाति के खोल से बाहर आने की हिम्मत हर किसी में नहीं होती है।

यह बात बहुत आसानी से समझने की है कि उन्हीं देशों ने विकास के पथ पर सरपट दौड़ लगाई है, जिसने जात-पात और धर्म के संकुचित सोच को दफन कर दिया। मगर हम अब भी उसी से चिपके हुए हैं। कोई पिछड़ा कह रहा है तो कोई खुद को जनेऊधारी ब्राह्मण साबित करने के यत्न कर रहा है। इस सस्ती और सतही सोच से कैसे माना जाए कि हम विकास के उस सिरे को छू लेंगे, जिसे चीन और जापान जैसे कुछ देशों ने हासिल कर लिया? यह सोचने की बात है कि जाति के विभिन्न खांचों में समाज को बांट कर कुछ लोगों वह पा गए, जिसके वह हकदार ही नहीं थे। विडंबना यही कि फिर से ऐसा कुछ रचा जा रहा है, जिससे असली और वाजिब मुद्दों पर न बात हो न चर्चा। अत: देश को पीछे धकेलने वालों के चेहरों से नकाब खींचने का वक्त आ गया है।

Please follow and like us:
Pin Share

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here