विलय होने से इस साल ज्यादा खाते बंद हुए: एसबीआई

0
648

नई दिल्ली, 17 मार्च। सार्वजनिक क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक, भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने स्पष्ट किया कि सहयोगी बैंकों के विलय होने से इस साल अधिक संख्या में खाते बंद किए गए। बैंक ने एक बयान में कहा, एसबीआई में इसके सहयोगी बैंकों का 2017 में विलय हो जाने से जो एसबीआई और इसके विभिन्न सहयोगी बैंकों में ग्राहकों के कई खाते थे वो अपेक्षाकृत इस साल अधिक संख्या में बंद हुए हैं।

एसबीआई ने कहा, जो ग्राहक अपने खातों में न्यूनतम मासिक धन रखने में असमर्थ हैं उनके पास यह विकल्प है कि वे अपने नियमित बचत बैंक खातों को बीएसबीडी खातों में नि:शुल्क बदल सकते हैं। एक अप्रैल 2018 से प्रभावी होने जा रहे न्यूनतम मासिक रकम नहीं रखने पर लगने वाले प्रभार में 75 फीसदी की कटौती को बैंक के ग्राहकों ने काफी सराहा है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here