दल का स्वार्थ ही धरम है…

0
211
मेरे देश में माहौल अब सियासत का गरम है।
ईर्ष्या, नफ़रत और भय का सब ओर आलम है।।
स्वस्थ राजनीति की अब फिर से जरूरत यहाँ है।
पर देश बाद में यहाँ, दल का स्वार्थ ही धरम है।।
सरकारें आयी गयीं पर आमजन का हाल वही है।
नौकरशाही वही है तानाशाही वही है..
सही मायने में तो लोकतंत्र का कहीं नाम नहीं है।।
बस मतदान ही लोकतंत्र का बना पर्याय यहाँ है।
बाकी दिनों अपने हक के लिये लड़ती जनता यहाँ है।।
– राहुल कुमार गुप्त

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here