स्तन कैंसर और गर्भाशय के कैंसर का पता लगाने का वैज्ञानिकों ने ढूंढा आसान तरीका

0
514

कैंसर के एक तिहाई मामले स्तर या गर्भाशय के कैंसर के हैं, साथ ही कैंसर से होने वाली मौतों में 20 प्रतिशत इन्हीं दोनों से होती है

नई दिल्ली, 20 अप्रैल 2019: भारतीय वैज्ञानिकों ने स्तन कैंसर और गर्भाशय के कैंसर का पता लगाने का आसान तरीका खोज निकाला है जो पारंपरिक तरीकों से सस्ता, सुगम और सटीक है। आईआईटी रुड़की के वैज्ञानिकों ने लार से स्तन कैंसर और गर्भाशय के कैंसर का पता लगाने की तकनीक विकसित की है। इसमें लार में मौजूद प्रोटीनों की जांच कर यह पता लगाया जाता है कि कोई मरीज इन दोनों बीमारियों से पीड़ित है या नहीं। पारंपरिक तौर पर एक्सरे के जरिए, मेमोग्राफी खून के नमूने की कलर-फ्लो डॉप्लर इमेज¨नग और ट्रांसवेजिनल अल्ट्रासाउंड के माध्यम से इनका पता लगाया जाता है।

मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो आईआईटी रुड़की में इस शोध का नेतृत्व करने वाले जैव प्रौद्योगिकी विभाग के प्रोफेसर किरण अम्बतिपुडी ने नई तकनीक के बारे में कहा, स्तन कैंसर तथा गर्भाशय के कैंसर वाली कोशिकाओं का वितरण एक समान नहीं होता। इसलिए पारंपरिक तरीकों से इनका आरंभिक चरण में पता लगाना कठिन होता है। साथ ही पारंपरिक तरीके महंगे हैं तथा उनमें मरीज पर विकिरण के कुप्रभाव का खतरा रहता है।

हमारा प्रयास लार का इस्तेमाल कर साधारण नमूने का इस्तेमाल था जिसमें विशेष प्रकार के प्रोटीन का इस्तेमाल संकेतक के रूप में हो सके। जिन मरीजों का इलाज चल रहा है उनके लार में मौजूद प्रोटीन से यह भी पता लगाया जा सकता है कि उन्हें इलाज का फायदा होगा या नहीं। दुनिया भर में कैंसर के एक तिहाई मामले स्तर या गर्भाशय के कैंसर के हैं। साथ ही कैंसर से होने वाली मौतों में 20 प्रतिशत इन्हीं दोनों से होती है।

प्रो. अम्बतिपुडी की टीम ने कुछ स्वस्थ लोगों और कुछ स्तन तथा गर्भाशय कैंसर के मरीजों के लार में मौजूद प्रोटीनों का अध्ययन किया। इन लोगों को चार समूहों में बांटा गया था। इनके लार में कुल 646 प्रकार के प्रोटीन पाए गए। इनमें 409 प्रकार के प्रोटीन सभी समूहों के लोगों के लार में थे। वही 57 ऐसे प्रोटीन थे, जो कम से कम एक समूह में थे लेकिन सभी समूहों में नहीं थे। 

Please follow and like us:
Pin Share

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here