मीडिया में दलितों की सहभागिता बढ़नी चाहिए: डॉ. लालजी प्रसाद निर्मल

0
202

तीन दिवसीय बाबा साहब द्वितीय पत्रकारिता प्रशिक्षण कार्यशाला हुई शुरू, 4 अगस्त को होगा समापन

लखनऊ,02 अगस्त 2019: उत्तर प्रदेश राज्य अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास निगम के चेयरमैन डॉ. लालजी प्रसाद निर्मल ने एक कार्यशाला को सम्बोधित करते हुए कहा कि पत्रकारिता में समाज के अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति के मुद्दो को वरीयता मिलनी चाहिए। उन्होंने कहा कि मीडिया में दलितों की सहभागिता बढ़नी चाहिए। यह बातें उन्होंने शुक्रवार को साप्ताहिक अखबार निष्पक्ष दिव्य संदेश के तत्वावधान में हुई बाबा साहब द्वितीय पत्रकार प्रशिक्षण कार्यशाला में कहीं।

बता दें कि पत्रकारिता प्रशिक्षण कार्यशाला के उद्घाटन के दौरान लखनऊ के कई पत्रकारों ने भी विचार रखे।
वरिष्ठ पत्रकार डा.चंद्र सेन वर्मा ने कहा कि तकनीक ने पत्रकारिता की दशा दिशा बदल दी है। मीडिया का स्वरूप तेजी से बदला है। अब डिजिटल मीडिया का जमाना है। इसकी स्वीकार्यता तेजी से बढ़ रही है।

के न्यूज के संपादक प्रदीप विश्वकर्मा ने कहा कि आज पत्रकारिता में विश्वास का संकट बढ़ता जा रहा है। विमर्श और तथ्यों का अभाव है। एक समय था कि पत्रकारिता में नए- नए नवाचार होते थे। इस दिशा में काम किए जाने की जरूरत है। पत्रकार अनुराग यादव ने डिजिटल मीडिया पर अपने विचार रखे।

उन्होंने कहा कि आज सूचना की रफ्तार बहुत ज्यादा है। ऐसे में डिजिटल मीडिया की आवश्यकता बहुत ज्यादा है। यदि कंटेंट आपका अच्छा है तो वह प्रिंट से अधिक डिजिटल पर देखा जाता है। डिजिटल से हम करोड़ों लोगों तक एक ही मिनट में पहुंच सकते हैं।

पत्रकार मनोज मिश्रा ने कहा कि हमें पत्रकारिता को और विश्वसनीय बनाना होगा। पत्रकार के उनका विषय अहम होता है। ऐसे में आप जिस भी विधा की रिपोर्टिंग करते हैं, उसकी गहराई को जानें। समाजसेवी और प्रखर वक्ता ताहिरा हसन ने भी अपने विचार रखे। उन्होंने कहा कि आज आंबेडकर को पत्रकारिता में उतारने की जरूरत है। हाशिए के तबके की रिपोर्टिंग नहीं हो रही है। उनके मुद्दे गायब हैं। हमें ऐसे लोगों को खोज कर लाना होगा जो विकास की मुख्य धारा से बहुत पीछे छूट गए हैं।

अपर महानिदेशक पत्र सूचना कार्यालय भारत सरकार लखनऊ अरिमर्दन सिंह ने भी विचार रखे। उन्होंने कहा कि निष्पक्ष पत्रकारिता एक चुनौती है, लेकिन इस चुनौती को स्वीकार करना ही होगा। विश्वसनीयता सबसे अहम है। यदि आपकी खबरों में विश्वसनीयता नहीं है, तो यह घातक है।

पूर्व वित्त मंत्री के.के.गौतम ने कहा कि मीडिया मनी रोग से ग्रसित है। इस रोग के कारण मीडिया की छवि धूमिल होति है। दूरदर्शन के पूर्व निदेशक प्रभु झींगरन ने भविष्य की मीडिया के बारे में प्रकाश डाला।

बाबा साहेब आंबेडकर प्रशिक्षण कार्यशाला का समापन 4 अगस्त को होगा। इस कार्यशाला में विभिन्न स्कूल और कॉलेजों से सैकड़ों छात्र और छात्राएं प्रशिक्षण के लिए आ रहे हैं। ग्रैंडियर थर्ड 302 अपार्टमेंट में चल रहे कार्यशाला में अनुभवी पत्रकार भी अपने अनुभव साझा करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here