शहर के लोग क्या जानें 6000 रूपए का मोल: कृषि मंत्री

0
730

नास में नए सभागार का किया उदघाटन

नई दिल्ली, 21 फरवरी 2019: कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह ने बुधवार को कहा कि जो लोग शहरों में रहते हैं वह 6,000 रूपए का मूल्य नहीं समझ सकते। उन्होंने किसान सम्मान निधि योजना की आलोचना करने वालों को आड़े हाथ लिया। श्री सिंह ने यहां 14वीं कृषि विज्ञान कांग्रेस के उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए कहा कि पीएम-किसान योजना से छोटे और सीमांत किसानों को काफी राहत मिलेगी। यह बातें उन्होंने राष्ट्रीय कृषि विज्ञान अकादमी (नास) परिसर में नवनिर्मित सभागार के उदघाटन के मौके पर कहीं।

उन्होंने उम्मीद जताई कि शहरी लोग धीरे-धीरे यह समझ पाएंगे कि यह सरकार किसानों के इस समुदाय के लिए क्या करने का प्रयास कर रही है।

बता दें कि इस योजना के तहत केंद्र सरकार छोटे और सीमांत किसानों को 6,000 रपए वार्षिक की आर्थिक मदद देगी जिसका भुगतान तीन किस्तों में किया जाएगा। इससे करीब 12 करोड़ किसानों के हर साल लाभांवित होने की संभावना है। विपक्ष इस राशि को लेकर सत्ताधारी पार्टी पर लगातार हमला करता रहा है और इसे कृषक समुदाय का अपमान और इस राशि को नाकाफी बता रहा है।

श्री सिंह ने कहा, ‘‘शहरों में रहने वाले लोग 6,000 रपए का मोल क्या जानें, वह तो एक बार रेस्तरां में खाने पर इतना खर्च कर देते हैं। यह किसानों के लिए महत्वपूर्ण है। किसी ग्रामीण से इस बारे में पूछिए, तब आपको इसकी कीमत पता चलेगी।’सरकार ने वित्त वर्ष 2019- 20 के अंतरिम बजट में 75,000 करोड़ रपए की पीएम-किसाना योजना की घोषणा की है। प्रधानमंत्री 24 फरवरी को गोरखपुर में इस योजना की शुरुआत करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here