चुटकुले: सुना है सरकार ने गुटखा के दाम बढा दिए हैं?

1
1376
तिवारी जी के यहाँ कल बेटा पैदा हुआ है नाम रखा है GST 
*गौरी शंकर तिवारी*
?
बड़े होने पर लोग उन्हें SGST अर्थात श्री गौरी शंकर तिवारी कहेंगे….
और उनके शादी के Invitation Card पर उनका नाम CGST माने
चिरंजीवी गौरी शंकर तिवारी लिखा होगा।
*******
कन्या का बाप: क्या करते हो ?
लड़का:  जी, व्यापार
बाप: GST के बारे में बताओ ?
लड़का : शादी नहीं करनी तो सीधे मना कर दो , अंड-बंड सवाल क्यों पूछते हो ?
*******
“अरे मिश्रा जी…
सुना है सरकार ने गुटखा के दाम बढा दिए है
अब का किजीएगा….
.
.
.
करना का है…..
आधा घंटा लेट थुकेंगे और का……
?*******
टीचर : बच्चो, वादा करो कि कभी शराब, सिगरेट नहीं पिओगे।
बच्चे : नहीं पीएंगे।
टीचर : कभी लड़कियों का पीछा नहीं करोगे!
बच्चे : नहीं करेंगे।
टीचर : लड़कियों से दोस्ती नहीं करोगे!
बच्चे : नहीं करेंगे।
टीचर : वतन के लिए जान दे दोगे!
बच्चे : दे देंगे, ऐसी जिन्दगी का करेंगे भी क्या..
?
*******
जरूरी नहीं की हर अच्छी लगने वाली 
चीज समझ में भी आये
-.-
-.-
-.-
-.-
-.-
‘.-
जिहाल-ए -मस्ती मुकुन बरंजिश ,
बहारे-ए-हिजरा बेचारा दिल है
?आज तक  समझ नहीं आया
?*******
आजकल एक नया चलन शुरू हुआ है, घर बैठे मोबाईल से बुक कराके कुछ भी मंगा लो…।
रमेश: ने सलामत स्वीट्स को फ़ोन लगाया…
tring tring..
सलामत स्वीट्स मे आपका स्वागत है,
कहिए क्या चाहिए.?”
रमेश: बोला” मिठाई चाहिए।”
“लड्डू के लिए एक दबाए,
रसगुल्ला के लिए दो दबाए,
काजू कतली के लिए तीन दबाए,
गुलाब जामुन के लिए चार दबाए,
मलाई पेड़े के लिए….”
रमेश: बोला मुझे लड्डू चाहिए थे,
मैंने एक दबाया,
“बूंदी के लिए एक दबाए,
मोतीचूर के लिए दो दबाए,
मगज के लिए तीन दबाए,
सोंठ के लिए चार……”
रमेश: ने दो दबाया…..
मोतीचूर चाहिए।
एक किलो के लिए एक दबाए,
पाँच किलो के लिए दो दबाए,
एक क्विंटल के लिए तीन दबाए…”
गलती से तीसरा बटन दब गया।
डर के मारे रमेश ने फोन काट दिया ।
पर अगले ही पल फ़ोन आया –
“आपसे एक क्विंटल मोतीचूर के लड्डू का आर्डर मिला है,
अपना एड्रेस बताए।”
रमेश बोला – “मैंने तो कोई फोन नहीँ किया है ।”
“आपके भाई ने किया होगा
इसी नंबर से था..
अपने भाई को फ़ोन दीजिए।”
रमेश बोला –
“हम लोग छः भाई हैं,
बड़े से बात के लिए एक दबाए,
उससे छोटे के लिए दो दबाए,
उससे छोटे के लिए तीन दबाए,
उससे छोटे के लिए चार….”
सामने वाले ने फ़ोन काट दिया।
*******
भीड़ से भरी एक बस में
विकलांगों की सीट पर एक बोरा रखा हुआ था और उसका मालिक बगल में खड़ा था।
तभी बगल वाला यात्री चीखा: भाई साहब, बस में इतनी भीड़ है और आप सीट पर #बोरा रखे हुए हैं, हटाइए इसको।
बोरे के मालिक ने कहा: भाई साहब, ये विकलांगों की सीट है और बोरे में #लंगड़ा_आम है…!!?

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here