आधा हमारा-आधा तुम्हारा

0
492

लखनऊ, 17 फरवरी। 2011 से 2018 तक PNB घोटाला जमकर परवान चढ़ा। मोदी सरकार अपने बचाव में कह रही है कि घोटाले की शुरूआत तो कांग्रेस सरकार मे ही हुई थी। आठ वर्ष इस घोटाले की उम्र है। चार वर्ष कांग्रेस सरकार के हिस्से में आया और चार वर्ष मोदी सरकार में परवान चढ़ा PNB घोटाला। यानी कांग्रेस ने जन्म में मदद की होगी तो मोदी सरकार ने घोटालेबाज को भगाने में सहयोग किया होगा।
आरोप-प्रत्यारोप का ही कैलकुलेशन कर लीजिये तो सबकुछ आधा-आधा। ये महसूस करते हुए एक नज्म याद आ गयी। नोटबंदी के समय मैंने कालेधन पर ये नज़्म लिखी थी। जिसका टाइटिल था:-

आधा हमारा-आधा तुम्हारा –

है कालेधन का नियम पुराना
आधा तुम्हारा-आधा हमारा

ये कल्लू जन्मा है जिस गुनाह से
आधा तुम्हारा-आधा हमारा

चले है मिलकर गुनाह छिपाने
इसे सियासी कफन पहनाने
सफेद करके, कलंक छिपाके
कबर बनाके, दफन कराके
गुनाहो को दे खिराजेअकीदत
निभा रहे हैं वो दोस्ताना

वो चुपके-चुपके तय कर चुके हैं
सियासी रहबर ये कह चुके हैं
तुम्हारी दौलत-हमारा रुतबा
आधा तुम्हारा- आधा हमारा

गरीब जनता को बलगला दो
फिर ख्वाब उसको नया दिखा दो,
उसे थका दो, उसे डरा दो,
उसे नचा दो, उसे छका दो,
जो खत्म न हो वहाँ लगा दो,
उसे कतारो मे ही फंसा दो,
तुम अपने कल्लू की कालिखो के
कलंक गरीबों पर ही लगा दो।

सियासतदाओँ- भ्रष्ट अमीरी,
बिके कलमकारो और वजीरों,
तुम्हारे नाटक की औडियन्स है
ये आम जनता तो कमअक़ल है,
हो तुम अदाकारी का खजाना,
इसे ही उल्लू सदा बनाना।

तुम्हारे सपनों से थक चुके हैं,
तुम्हारी चालो मे फँस चुके हैं,
तुम्हारी बातों मे आ गये थे,
तुम्हारे झाँसो को सच समझकर,
पीएम बनाने का ये गुनाह है
आधा हमारा-आधा तुम्हारा ।।

– नवेद शिकोह