मुंबई ब्लास्ट 1993: अबू सलेम को उम्रकैद और 2 लाख रुपये का जुर्माना

0
479

मुंबई ब्लास्ट केस में ताहिर मर्चेंट और फिरोज को फांसी की सजा सुनाई है। इसके साथ ही अबू सलेम को उम्र कैद और 2 लाख रुपये का जुर्माना, जबकि करीमुल्लाह शेख को उम्रकैद के साथ 2 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है


मुंबई,7 सितंबर। काफी लम्बे समय के इन्जार के बाद आज मुंबई के सबसे चर्चित केस’ 1993 मुंबई ब्लास्ट’ टाडा कोर्ट ने सजा ऐलान कर दिया है। विशेष टाडा अदालत ने इस केस में ताहिर मर्चेंट और फिरोज को फांसी की सजा सुनाई है। इसके साथ ही अबू सलेम को उम्रकैद और 2 लाख रुपये का जुर्माना, जबकि करीमुल्लाह शेख को उम्रकैद के साथ 2 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। इनके अलावा रियाज सिद्दीकी को 10 साल की सजा सुनाई गई है।

Related image

 

जिस वक्त कोर्ट में सलेम को सजा सुनाई जा रही थी, उस समय वह मुस्कुरा रहा था। दरअसल, सलेम की मुस्कुराहट के पीछे वह प्रत्यर्पण संधि है, जो उसे सजा-ए-मौत या 25 साल से ज्यादा सजा नहीं होने दे रही है। 2005 में पुर्तगाल ने अबु सलेम को प्रत्यर्पण संधि के तहत भारत को सौंपा था, जिस संधि में पुर्तगाल ने कुछ शर्तों पर प्रत्यर्पण को मंजूरी दी थी।

प्रत्यर्पण की शर्त के अनुसार सलेम को दोषी पाये जाने पर न तो मौत की सजा दी जायेगी और न ही उसे 25 साल से अधिक हिरासत में रखा जाएगा। सलेम और उसकी महिला मित्र अभिनेत्री मोनिका बेदी को तीन साल की लंबी कानूनी लड़ाई के बाद पुर्तगाल ने 11 नवंबर, 2005 को भारत को सौंपा था। अबू सलेम के प्रत्यर्पण के समय भारत ने पुर्तगाल को इन शर्तों के पालन को आश्वासन दिया था।