भीषण बाढ़ की चपेट में फंसे 6 लोगों को एनडीआरएफ की टीम ने बचाया

0
721
उफनती लहरों के बीच अपनी जान को जोखिम मे डालते हुए एनडीआरएफ के जवानो ने अपनी मोटर बोट से पानी की तेज धारा को चीरते हुए पेड़ों पर आश्रय लिए छ: लोगो को सकुशल उतारा तथा उनका स्वास्थ का परीक्षण किया ओर नजदीकी राहत शिविर में पहुंचाया 
नेपाल में हुयी तेज बारिश से राप्ती नदी का जलस्तर तेजी से बढ़ने के कारण जिला श्रावस्ती, बलरामपुर और बहराइच में बाढ़ का प्रकोप बहुत बढ़ गया है। वाराणसी स्थित 11 एनडीआरएफ की 14 टीमें जो कि उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों वाराणसी, लखनऊ, गोरखपुर, गोंडा, बहराइच, बिजनौर, लखीमपुर खेरी, इलाहाबाद, बलिया, बलरामपुर और श्रावस्ती व मध्य प्रदेश में भोपाल, धार और बड़वानी में तैनात हैं । पूर्वी उत्तर प्रदेश में गंगा, घाघरा, शारदा और राप्ती नदी उफान पर है ।
आज बहराइच जिले में राहत ओर बचाव कार्य मे तैनात 11 एनडीआरएफ की 30 सदस्य टीम को सुचना मिली की जिला बहराइच की तहसील नानपारा के गाओं गोपीआ, मिहीपुरवा के बाढ़ प्रभावित क्षेत्र मे जलस्तर बहुत तेजी से बढ़ने के कारण कुछ लोग अपने जीवन की रक्षा के लिए पेड़ों पर चढ़ गए है जिनका बच पाना बहुत मुश्किल है ।वहां पर आर. आर. सी. लखनऊ की 3 टीमें पहले से ही मौजूद थी। सूचना मिलते ही 11 एनडीआरएफ टीम
इंस्पेक्टर संजीव कुमार के नेतृत्व मे अपने साजो समान के साथ रवाना हो गई, उफनती लहरों के बीच अपनी जान को जोखिम मे डालते हुए एनडीआरएफ के जवानो ने अपनी मोटर बोट से पानी की तेज धारा को चीरते हुए पेड़ों पर आश्रय लिए छ: लोगो को सकुशल उतारा तथा उनका स्वास्थ का परीक्षण किया ओर नजदीकी राहत शिविर में पहुंचाया।
एनडीआरएफ की इस त्वरित कार्यवाही व लोगों के जीवन कीरक्षा और राहत सामग्री बटवाने में जिला प्रशाशन की सहायता के लिए जिलाधिकारी बहराइच ने टीम के रेस्कुएर्स के कार्य की सराहना की तथा गाओं के लोग भी अब अपने आप को सुरक्षित महसूस कर रहे हैं।