किम जोंग ने फिर किया जापान सागर में मिसाइल परिक्षण

0
472
file photo

दुनिया को तीसरे विश्व युद्ध की ओर ले जा रहा है उत्तर कोरिया

अमेरिका की चेतावनी का नहीं हुआ कोई असर

मुंबई 29 नवंबर। आखिर वही हुआ जिसका अंदेशा था, जापान ने अपने अत्याधुनिक सिग्नल सर्च ऑपरशन से पता लगाया था की उत्तर कोरिया जल्द ही कोई मिसाइल परिक्षण कर सकता है इसी बीच उत्तर कोरिया के तानाशाह ने मंगलवार को एक और मिसाइल का परीक्षण कर दिया। जापान सागर में दागी गई इस मिसाइल का धमाका दूर तक महसूस किया गया है।

जापान और अमेरिका ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद से आपात बैठक बुलाने का आग्रह किया

यह परीक्षण नॉर्थ कोरिया की ओर से अमेरिका को सीधी चेतावनी मानी जा रही है। दक्षिण कोरिया, जापान और अमेरिका ने उत्तर कोरिया के बैलिस्टिक मिसाइल परीक्षण के विश्लेषण को लेकर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) से आपात बैठक बुलाने का आग्रह किया है।

अमेरिका ने अपने बयान में किंग जोंग को सबक सिखाने के लिए दुनिया के देशों से एकजुट होने की अपील की है। उधर, दक्षिण कोरिया में भारत के राजदूत विक्रम दुरईस्वामी ने भी इस मिसाइल परीक्षण को दुनिया की शांति के लिए खतरा बताया है।

राजनयिक सूत्रों के मुताबिक, अभी इस बैठक की तारीख पर चर्चा हो रही है। यह बैठक बुधवार को हो सकती है, जहां सुरक्षा परिषद ने उत्तर कोरिया पर प्रतिबंधों पर चर्चा के लिए पहले ही एक सत्र बुलाया है। उ. कोरिया ने पूर्व की दिशा में मिसाइल को छोड़ा जिसका विश्लेषण द. कोरिया की सेना अमेरिका के साथ मिलकर कर रही है।

इससे पहले अमेरिकी सरकार को दो आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि अमेरिकी सरकार के विशेषज्ञों का मानना है कि उ. कोरिया द्वारा सितंबर के मध्य में जापान के ऊपर से दागे गए मिसाइल के बाद यह पहला मिसाइल परीक्षण है।

दो दिन पहले ही जापान ने रेडियो संकेतों से उत्तर कोरिया के मिसाइल परीक्षण के अंदेशा जताया था, जिसे किम जोंग ने सही साबित कर दिया। दक्षिण कोरिया के आर्मी चीफ के खुलासे के बाद अमेरिका ने किम जोंग को इस करतूत पर चेतावनी दी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here