परिनिर्वाण दिवस की छुट्टी निरस्त करने के बाद अब दलित शिक्षकों का रिवर्शन नहीं करेंगे बर्दाश्त

0
543
  • बाबा साहब डा. भीमराव अम्बेडकर जी को श्रद्धासुमन अर्पित करने के बाद आरक्षण समर्थक सांकेतिक रूप से धरने पर बैठे, सरकार को बताया दलित विरोधी।
  • बाबा साहब परिनिर्वाण दिवस के अवसर पर देर रात लखनऊ के 487 दलित शिक्षकों को रिवर्ट करने की साजिश से आरक्षण समर्थक भड़के।
  • आरक्षण समर्थकों का ऐलान न रूकी रिवर्शन की कार्यवाही तो लखनऊ में विशाल प्रदर्शन जल्द।
  • बाबा साहब के परिनिर्वाण दिवस की छुट्टी निरस्त करने के बाद अब दलित शिक्षकों का रिवर्शन नहीं करेंगे बर्दाश्त।
लखनऊ 06 दिसम्बर। आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति, उप्र के तत्वाधान में आरक्षण समर्थक बाबा साहब डा. भीमराव अम्बेडकर जी को उनके परिनिर्वाण दिवस पर प्रातः 8 बजे सामाजिक परिवर्तन प्रतीक स्थल स्थित उनकी प्रतिमा पर श्रद्धा सुमन अर्पित करने के तुरन्त बाद डेढ़ घण्टे के लिये सांकेतिक रूप से जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, लखनऊ द्वारा लगभग 487 दलित शिक्षकों को रिवर्ट किये जाने हेतु देर रात जारी अनन्तिम वरिष्ठता सूची के खिलाफ धरने पर बैठ गये। गौरतलब है कि बाबा साहब परिनिर्वाण दिवस पर जब आरक्षण समर्थक बाबा साहब को याद कर रहे थे, तभी लखनऊ के कुछ दलित शिक्षकों द्वारा यह सूचना दी गयी कि जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, लखनऊ द्वारा लगभग 487 दलित शिक्षकों को रिवर्ट किये जाने हेतु अनन्तिम वरिष्ठता सूची चस्पा कर दी गयी है।
जिस पर सैकड़ों की संख्या में आरक्षण समर्थक दलित शिक्षक आक्रोशित हो गये और विरोध स्वरूप संघर्ष समिति के संयोजक अवधेश कुमार वर्मा के नेतृत्व में सांकेतिक धरने पर बैठकर सरकार की दलित विरोधी नीति की जमकर भत्र्सना की और कहा एक तरफ बाबा साहब परिनिर्वाण दिवस की छुट्टी निरस्त की और अब दलित शिक्षकों को रिवर्ट किया जा रहा है। उसके बाद सैकड़ों की संख्या में दलित शिक्षक जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, लखनऊ के कार्यालय पहुंचकर अपना विरोध दर्ज कराया। रिवर्शन की कार्यवाही पर न लगी रोक तो निदेशक, बेसिक शिक्षा व जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, लखनऊ के कार्यालय पर विशाल प्रदर्शन  किया जायेगा।
आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति,उप्र के संयोजकों अवधेश कुमार वर्मा, डा. राम शब्द जैसवारा, आरपी केन, अनिल कुमार, अजय कुमार, श्याम लाल, अन्जनी कुमार, रीना रजक, महेन्द्र सिंह, लेखराम, अशोक सोनकर, बनी सिंह, पीपी सिंह, प्रेमचन्द्र, राम बरन, दिनेश कुमार, जितेन्द्र कुमार, अनीता, रेनू, राजेश पासवान, प्रभू शंकर राव, अमित कुमार, श्रीनिवास राव, सुधा गौतम, अर्चना, शैलेन्द्र मणि, सुनील कनौजिया ने कहा कि जब आज आरक्षण समर्थक बाबा साहब को श्रद्धासुमन अर्पित कर उन्हें याद कर रहे हैं उस अवसर पर सरकार के इशारे पर लखनऊ में 487 दलित शिक्षकों को रिवर्ट करने हेतु जारी की गयी अनन्तिम वरिष्ठता सूची पूरी तरह गलत है। क्योंकि आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति दर्जनों बार निदेशक, बेसिक शिक्षा व जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को अवगत करा चुकी है कि 90 प्रतिशत दलित शिक्षकों की पदोन्नति आरक्षण अधिनियम 1994 की धारा 3(2) के तहत हुई है, ऐसे में एक आरक्षण विरोधी संगठन के दबाव में दलित शिक्षकों को रिवर्ट कराने की साजिश पूरी तरह गलत है।

पढ़ें इससे सम्बंधित खबर:

योगी सरकार ने परिनिर्माण दिवस की छुट्टी रद्द की

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here